close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

NDA की सीट शेयरिंग पर बोले कुशवाहा, 'नीतीश कुमार के सामने BJP ने घुटने टेक दिए हैं'

एनडीए में सीट शेयरिंग के फैसले के बाद हाल ही में गठबंधन तोड़ने वाले उपेंद्र कुशवाहा ने निशाना साधते हुए कहा है कि बीजेपी आखिर में जेडीयू के सामने घुटने टेक दिए.

NDA की सीट शेयरिंग पर बोले कुशवाहा, 'नीतीश कुमार के सामने BJP ने घुटने टेक दिए हैं'
एनडीए के सीट शेयरिंग पर उपेंद्र कुशवाहा ने निशाना साधा है. (फोटोः ANI)

पटनाः बिहार में एनडीए के दलों के बीज सीट शेयरिंग का फैसला हो चुका है. बिहार में बीजेपी और जेडीयू दोनों बराबर सीटों पर लड़ेंगे. दोनों दल 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. वहीं, एलजेपी को 6 सीट दी गई है. एनडीए में सीट शेयरिंग के फैसले के बाद हाल ही में गठबंधन तोड़ने वाले उपेंद्र कुशवाहा ने निशाना साधते हुए कहा है कि बीजेपी आखिर में जेडीयू के सामने नतमस्तक हो ही गई. इसलिए बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

उपेंद्र कुशवाहा ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह कहते थे की 56 इंज का सीना है. लेकिन 56 इंच के सीने वाले भी नतमस्तक हो गए. उन्होंने कहा बिहार में बीजेपी आखिरकार नीतीश कुमार के सामने घुटने टेक ही दिए हैं. इसलिए दोनों दलों के बीच आधा-आधा का बंटवारा हो गया.

उन्होंने कहा कि बीजेपी 22 सीट पर जीत हासिल करने के बाद भी जेडीयू के सामने नतमस्तक होकर बराबर-बराबर सीटों पर लड़ने को तैयार हो गई है. इससे साफ है कि बीजेपी ने जेडीयू के सामने घुटने टेक दिए हैं.

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि किसको कितना सीट मिली है इससे जनता को कोई मतलब नहीं है. वह तो अपना फैसला लेगी और उन्हें सबक सिखाएंगी.

आपको बता दें कि हाल ही में उपेंद्र कुशवाहा ने दिल्ली में ऐलान किया था कि वह एनडीए से अलग हो रहे हैं. वहीं, कुछ दिन बाद ही उन्होंने दिल्ली में ही यूपीए ज्वाइन करने का ऐलान किया था. हालांकि वह इससे पहले अन्य विकल्पों की बात कर रहे थे, लेकिन आखिरकार वह कांग्रेस के साथ हो गए.

गौरतलब है कि सीट बंटवारें को लेकर उपेंद्र कुशवाहा लगातार एनडीए पर निशाना साध रहे थे. वहीं, जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार से भी उनकी नहीं बन रही थी. एनडीए में रहते हुए उन्होंने नीतीश कुमार के खिलाफ  मोर्चा खोल दिया है. इस बात से बीजेपी भी उनसे काफी नाराज थी. यहां तक की मंत्री पद पर होते हुए भी उपेंद्र कुशवाहा पीएम मोदी के कामों की बुराई कर रहे थे.