पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, CM हेमंत समेत तमाम सियासी दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

आर्मी अस्पताल के मुताबिक, रविवार सुबह उन्हें कार्डियक अरेस्ट  हुआ और इसके बाद उनका सुबह 6:55 बजे निधन हो गया. हालांकि, उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई थी.

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, CM हेमंत समेत तमाम सियासी दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि
82 वर्ष की आयु में पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन हो गया. (फाइल फोटो)

रांची: पूर्व केंद्रीय मंत्री मेजर (सेवानिवृत्त) जसवंत सिंह (Jaswant Singh) का रविवार को निधन हो गया. जानकारी के मुताबिक, 82 वर्षीय दिग्गज नेता का निधन रविवार सुबह 6:55 बजे हो गया. उन्हें 25 जून को दिल्ली के आर्मी अस्पताल (Army Hospital) में भर्ती कराया गया था और मल्टीसर्गन डिसफंक्शन सिंड्रोम (Multiorgan Dysfunction Syndrome) के साथ सेप्सिस (Sepsis) के लिए इलाज किया जा रहा था.

आर्मी अस्पताल के मुताबिक, रविवार सुबह उन्हें कार्डियक अरेस्ट (Cardiac Arrest) हुआ और इसके बाद उनका सुबह 6:55 बजे निधन हो गया. हालांकि, उनकी कोरोना वायरस (Coronavirus) रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के निधन के बाद देश में शोक की लहर दौड़ गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi), रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) सहित तमाम सियासी दिग्गजों ने दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा,' जसवंत सिंह जी ने हमारे देश की सेवा पूरी मेहनत से की, पहले एक सैनिक के रूप में और बाद में राजनीति के साथ अपने लंबे जुड़ाव के दौरान. अटल जी की सरकार के दौरान, उन्होंने महत्वपूर्ण विभागों को संभाला और वित्त, रक्षा और बाहरी मामलों की दुनिया में एक मजबूत छाप छोड़ी. उनके निधन से दुखी हूं.'

अपने दूसरे ट्वीट में पीएम ने लिखा,  'जसवंत सिंह जी को राजनीति और समाज के मामलों पर उनके अनूठे दृष्टिकोण के लिए याद किया जाएगा. उन्होंने भाजपा को मजबूत बनाने में भी योगदान दिया. मैं हमेशा हमारी बातचीत को याद रखूंगा. उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना. ओम शांति.'

पीएम मोदी ने आगे लिखा,  'मानवेन्द्र सिंह से बात की और जसवंत सिंह जी के दुर्भाग्यपूर्ण निधन पर शोक व्यक्त किया. अपने स्वभाव के अनुरूप, जसवंत जी ने अपनी बीमारी का सामना पिछले छह वर्षों तक किया.'

वहीं, राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर लिखा, 'अनुभवी भाजपा नेता और पूर्व मंत्री जसवंत सिंह जी के निधन से गहरा दुख हुआ. उन्होंने रक्षा मंत्रालय के प्रभारी सहित कई क्षमताओं में देश की सेवा की. उन्होंने खुद को एक प्रभावी मंत्री और सांसद के रूप में प्रतिष्ठित किया.'

रक्षामंत्री ने आगे लिखा, 'जसवंत सिंह जी को उनकी बौद्धिक क्षमताओं और देश की सेवा में तारकीय रिकॉर्ड के लिए याद किया जाएगा. उन्होंने राजस्थान में भाजपा को मजबूत करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. इस दुख की घड़ी में उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना. ओम शांति.'

इधर, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी ट्वीट कर जसवंत सिंह को श्रद्धांजलि दी. सीएम ने लिखा, 'पूर्व केंद्रीय मंत्री और दीर्घकालिक सांसद जसवंत सिंह जी के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ. राष्ट्र के लिए उनका योगदान उच्च संबंध में आयोजित किया जाएगा. उनकी आत्मा को शांति मिले और शोक संतप्त परिजनों के साथ मेरी प्रार्थना.'

गौरतलब है कि जसवंत सिंह बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में शुमार थे. हालांकि, 2014 में वह बागी होकर लोकसभा चुनाव लड़े थे. इसके बाद 2018 के राजस्थान विधानसभा चुनाव में उनके बेटे मानवेंद्र सिंह ने भी बीजेपी छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया था.

बता दें कि जसवंत सिंह पांच बार राज्यसभा (1980, 1986, 1998, 1999, 2004) और चार बार लोकसभा (1990, 1991, 1996, 2009) सदस्य के रहे थे. अटल बिहार वाजपेयी की सरकार में उन्होंने वित्त, विदेश और रक्षा विभाग के मंत्री की जिम्मेदारी संभाली थी. साथ ही 2004 से 2009 तक वह राज्यसभा में विपक्ष के नेता भी थे.