close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

धनबाद: कोयला खदान के भीतर लगातार बढ़ रहा है जलस्तर, अधिकारियों में हड़कंप

22 सितम्बर 2019 का वो रविवार का दिन तो आपको याद ही होगा, जब इसी खदान में अचानक पानी भरने से अंदर कोयला उत्खनन करने गए 9 कर्मियों के ऊपर काल टूट पड़ा था. 

धनबाद: कोयला खदान के भीतर लगातार बढ़ रहा है जलस्तर, अधिकारियों में हड़कंप
धनबाद में कोयला खादान में बढ़ रहा है पानी.

धनबाद: झारखंड के धनबाद (Dhanbad) के पुटकी बलिहारी परियोजना कोयला खदान (Coal Mines) के भीतर लगातार जलस्तर बढ़ता जा रहा है. आलम यह है कि खदान के अंदर से पानी बाहर निकालने के लिए लगाई गई मशीनें भी अब डूब चुकी है. खदान के भीतर कोयला खनिकों को ले जाने वाली डोली भी डूबती जा रही है. इससे न सिर्फ कोयला प्रोडक्शन पूरी तरह ठप पड़ गया है, बल्कि कोयला खदान के ऊपर भी बंदी के बादल मंडराने लगे हैं.

22 सितम्बर 2019 का वो रविवार का दिन तो आपको याद ही होगा, जब इसी खदान में अचानक पानी भरने से अंदर कोयला उत्खनन करने गए 9 कर्मियों के ऊपर काल टूट पड़ा था. समय पर इसकी सूचना खदान के बाहर अधिकारियों को मिलने और रेस्क्यू ऑपरेशन चलाए जाने के बाद बड़े ही सौभाग्य से इन सभी कर्मियों की न सिर्फ जान बच सकी थी, बल्कि सकुशल इन्हें बाहर भी निकाल लिया गया था.

उसी दिन कोयला खदान में भरे पानी को लगातार बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा था, लेकिन खदान से पानी कम होने की बजाए लगातार बढ़ता ही जा रहा है. 550 फीट गहरे इस कोयला खदान से पानी निकालने के लिए 8 मोटर पम्प लगाए गए थे, जो अब पानी में डूब चुका है. खदान के अंदर जाने के लिए उपयोग की जाने वाली डोली भी 2 फिट पानी में समा चुका है. बीसीसीएल के अधिकारियों की लगातार प्रयास भी खदान के अंदर से पानी बाहर निकाल पाने में अब तक असमर्थ साबित हुए हैं. 

बीसीसीएल का यह कोयला खदान इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि लगभग आधा दर्जन खदानें इससे जुड़ी हुई हैं. यदि इस कोयला खदान में पानी भरता है तो इससे जुड़ी बाकी की कोयला खदानें भी बुरी तरह प्रभावित होंगी. खदानों में भी पानी भरने का खतरा बढ़ जाएगा. इससे इन तमाम कोयला खदानों से कोयले का उत्खनन पूरी तरह बंद हो जाएगा. इसी खतरे को लेकर बीसीसीएल के अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है.