जब 'झारखंड के लाल' ने एक पारी में 14 छक्के मारकर मचाया था रणजी मैच में धमाल

Cricket News: झारखंड के लाल ईशान किशन ने 2016 के रणजी मैच में एक पारी में 14 छक्के लगाकर अपनी प्रतिभा की झलक दिखाई थी.

जब 'झारखंड के लाल' ने एक पारी में 14 छक्के मारकर मचाया था रणजी मैच में धमाल
ईशान ने 2016 के रणजी मैच में लगाई थी छक्कों की झड़ी. (फाइल फोटो)

Ranchi:  बात नवंबर 2016 के महीने की है, जब भारत में ठंड अपने पैर पसार रही होती है. इस सुनहरे मौसम में भारत के घरेलू क्रिकेट की रीढ़ कहे जाने वाली रणजी क्रिकेट की शुरुआत हो जाती है. रणजी क्रिकेट, जहां हर साल सैकड़ों घरेलू खिलाड़ी रिकॉर्डतोड़ प्रर्दशन करके नेशनल टीम में जगह बनाना चाहते हैं. कुछ ऐसी ही सोच के साथ 2016 के रणजी सीजन में झारखंड का 16 साल का एक युवा खिलाड़ी अपनी किस्मत आजमाने उतरा था. उसी साल आयोजित विश्व कप अंडर -19 वर्ल्ड कप विजेता टीम कप्तान होते हुए भी उसके बल्ले की धार कहीं खो गया था. लेकिन 2016-2017 के रणजी सीजन में खेली गई एक पारी ने उनकी तकदीर और तदबीर को बदल दिया था.

2016 के रणजी ट्रॉफी ग्रुप बी के तहत तिरुवनंतपुरम में झारखंड और दिल्ली के बीच मैच खेला जा रहा था. दिल्ली टीम ने टॉस जीतकर झारखंड टीम को पहले बल्लेबाजी करने के लिए न्यौता दिया. लेकिन कुछ ही देर बाद झारखंड का स्कोर 80 रनों पर 4 विकेट हो गया. टीम मुश्किल में दिखाई दे रही थी. तब पिच पर वो बल्लेबाज आता है, जिसके पास हौसला तो था, लेकिन बड़े लेवल क्रिकेट के नाम पर बस अंडर -19 वर्ल्ड कप का बस थोड़ा अनुभव. लेकिन पूरे टूर्नामेंट में रन के नाम पर 6 मैचों में सिर्फ 73 रन. यू कहिए, खिलाड़ी के पास खोने के लिए कुछ नहीं था, लेकिन पाने के लिए सारा जहान था.

ये भी पढ़ें- Ishan Kishan के प्रदर्शन पर गांव में मचा जश्न, मंत्री अशोक चौधरी बोले-'जिया हो बिहार के लाला'

कम रनों पर 4 विकेट गिरने के बाद भी ईशान ने अपना नेचुरल खेल दिखाने का फैसला किया. विकटों के पतझड़ के बीच ईशान ने कोई दबाव अपने ऊपर नहीं लिया. मैदान के हर कोने में चौकों - छक्कों की बौछार कर दी. ईशान ने अगले 3 बल्लेबाजों के साथ करीब 300 रन जोड़े. जिसमें बाकी बैट्समैन का योगदान सिर्फ 120 रनों का था. ईशान ने 300 रनों में करीब 180 रन अकेले बनाए थे. लेकिन दिल्ली के गेंदबाज पर ईशान का कहर बरपाना बाकी था. दिल्ली के गेंदबाजों ने झारखंड के 8 विकेट 404 रन पर गिरा दिए थे, केवल पुछल्ले बल्लेबाजों का आना बाकी था. लेकिन मैदान पर ईशान किशन अभी भी मौजूद थे. एक बार ईशान किशन फिर से दिल्ली के गेंदबाजों पर कहर बनकर टूट पड़े. अगले 89 रन में 86 रन उनके थे.

जब झारखंड टीम की पहली पारी 119 ओवरों में 493 रन पर खत्म हुई, तो ईशान किशन के उस  493 रनों में से 273 रन अकेले के थे. 21 चौक्के और 14 छक्कों की सहायता से गेंदबाजों की बखिया उधेड़ चुके थे. जबकि टीम में उनके बाद सबसे ज्यादा स्कोर ईंशाक जग्गी के थे, वो भी सिर्फ 55 रन. 

ईशान किशन के उस बेखौफ पारी ने दिल्ली के गेंदबाजों का दिल दहला दिया था. साथ ही साथ ईशान के 273 रन ने रिकार्ड्स की झड़ी लगा दी.

  •  ईशान किशन के बनाए गए 273 रन रणजी क्रिकेट में झारखंड के कोई भी बल्लेबाज के द्वारा बनाया गया सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर है.
  • 273 रनों में 14 छक्कों के साथ ईशान किशन ने हिमाचल प्रदेश के शक्ति सिंह के रिकार्ड की बराबरी कर लिया. शक्ति सिंह ने 1990 में हरियाणा के खिलाफ 128 रनों की पारी में 14 छक्कों से गेंदबाजों को थर्रा दिया था.

दिल्ली के खिलाफ उस पारी के बाद ईशान किशन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. रणजी के 2016-2017 के सीजन में झारखंड की तरफ से उन्होंने 799 रन बनाए. जिसका ईनाम उनको आईपीएल कांट्रैक्ट के रूप में मिला. IPL में ईशान पहले  Gujrat lions की तरफ से खेले और फिर बाद में मुम्बई इंडियस के साथ जुड़ गए. वहीं, इसी बीच वो झारखंड टीम के कप्तानी पद से भी नवाजे गए. ईशान का प्रर्दशन सालों-साल बेहतर ही होता जा रहा है. आईपीएल 2020 में किए गए बेहतरीन प्रर्दशन के दम पर हाल में ही भारतीय टी-20 टीम में चुने गए. जहां डेब्यू मैच में पचासा जड़कर मैन ऑफ दी मैच का खिताब जीता. 

IPL 2021 की शुरूआत 9 अप्रैल से होने जा रहा है. ऐसे में ईशान किशन को खुद से उम्मीद होगी कि एक और बेहतरीन सीजन उनके लिए भारतीय वन-डे टीम का भी दरवाजा खोल देगी. साथ ही साथ अच्छे प्रर्दशन के दम पर 2021 में भारत में होने जा रहे T-20 WORLD CUP के भारतीय टीम में जगह बना सकें.

(इनपुट- कुमुद रंजन)