महागठबंधन में सीएम पद की उम्मीदवार पर घमासान जारी, तेजस्वी ने अपनी उम्मीदवारी पर लगाई मुहर

आरजेडी ने तेजस्वी को सीएम उम्मीदवार भले ही घोषित कर दिया है लेकिन उनके सहयोगी दल तेजस्वी को सीएम मानने को तैयार नहीं.

महागठबंधन में सीएम पद की उम्मीदवार पर घमासान जारी, तेजस्वी ने अपनी उम्मीदवारी पर लगाई मुहर
वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस-पब्लिक भिड़ंत पर तेजस्वी ने भी अपनी राय रखी...

पटना: महागठबंधन (Mahagathbandhan) में सीएम कैंडिडेट को लेकर मचे घमासान के बीच तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने महागठबंधन के दलों को आईना दिखा दिया है. जीतनराम मांझी (Jitan Ram Manjhi) की ओर से लगातार दलित सीएम कैंडिडेट (CM candidate) की चर्चा छेड़े जाने पर तेजस्वी ने साफ कर दिया कि आज की तारीख में दलित और पिछड़े सीएम बन रहे हैं तो वो लालू प्रसाद (Lalu Prasad) की ही कोशिशों का नतीजा है. तेजस्वी ने कहा है कि वो लालू प्रसाद को धन्यवाद देते हैं और ये उन्हीं की देन है कि लोग अपने अधिकार की मांगों को लेकर आगे आने लगे हैं. 

आरजेडी ने तेजस्वी को सीएम उम्मीदवार भले ही घोषित कर दिया है लेकिन उनके सहयोगी दल तेजस्वी को सीएम मानने को तैयार नहीं. खासतौर पर जीतनराम मांझी लगातार इस बात का जिक्र करते रहे हैं कि सीएम उम्मीदवार का फैसला अभी नहीं हुआ है, किसी दलित चेहरे को भी उम्मीदवार बनाया जा सकता है. तेजस्वी यादव ने मांझी समेत अपने तमाम गठबंधन दलों के नेताओं को इसका जवाब दे दिया है.

तेजस्वी ने साफ कहा है कि ये लालू प्रसाद की ही देन है कि आज पिछड़े और दलित समाज के लोग बिहार का नेतृत्व कर रहे हैं. हम लोगों का ये हमेशा प्रयास रहा है कि सिर्फ राजनीति के क्षेत्र में ही नहीं बल्कि शिक्षा खेल संस्कृति हरेक क्षेत्र में दलित पिछडों को प्रतिनिधित्व मिले. लेकिन जब आरक्षण रहेगा ही नहीं संविधान रहेगा ही नहीं तो प्रतिनिधित्व मिलेगा कैसे. अभी जो लोग सत्ता में हैं उनको हटाना जरुरी है क्योंकि वो लोग आरक्षण विरोधी है. 

युवा आरजेडी के सदस्यता अभियान की समीक्षा करने पहुंचे तेजस्वी यादव ने ये बातें मीडिया के साथ साझा कीं. तेजस्वी ने कहा कि हम युवाओं की समस्याओं को लेकर संघर्ष करेंगे. हमारी कोशिश होगी कि ज्यादा से ज्यादा युवाओं को पार्टी से जोड़ा जाए. युवाओं की समस्याओं को मुद्दा बनाने को लेकर वो अलग से समीक्षा बैठक भी करेंगे.

LIVE टीवी:

वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस-पब्लिक भिड़ंत पर तेजस्वी ने भी अपनी राय रखी. तेजस्वी ने कहा कि हैवी चालान काटने की जगह पर पहले लोगों को जागरूक करना चाहिए था लेकिन चालान को लेकर पुलिस का जो रवैया समाने आया है वो बिलकुल ही गुंडागर्दी है. सरकारी अधिकारी हों या आम आदमी सबके लिए नियम एक जैसे होने चाहिए. सरकारी गाड़ियों का भी रजिस्ट्रेशन होना चाहिए.  

इधर, पूरे देश में हिन्दी एकमात्र भाषा के सवाल पर तेजस्वी ने कहा कि इस देश की खुबसूराती है कि यहां अलग अलग भाषा पहनावा खानपान और संस्कृति है. हिंदी राष्ट्रभाषा है, इसका सम्मान सब लोग करते हैं. बीजेपी लोगों को आपस में लड़वाती है.