close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पति, देवर को बचाने के लिए अपराधियों से भिड़ गई महिला, जान बचाकर भागे बदमाश

सुहाग की जिंदगी बचाने के लिए सोनी देवी ने अपनी जान की परवाह किए बगैर अपराधियों से लोहा ले ली.

पति, देवर को बचाने के लिए अपराधियों से भिड़ गई महिला, जान बचाकर भागे बदमाश
पति और देवर को बचाने के लिए अपराधियों से भिड़ गई महिला.

रांची : झारखंड की राजधानी रांची में दो महिलाओं की अलग-अलग कहानी देखने को मिली है. सोनी देवी ने अपने पति और देवर की जान बचाने के लिए अपराधियों से लोहा लेकर साहस का परिचय दिया है. वहीं, दूसरी तरफ रांची के ही मांडर प्रखंड की एक महिला ने राज्य की बच्चियों को बेचकर मां के नाम का ही सौदा कर दिया.

सुहाग की जिंदगी बचाने के लिए सोनी देवी ने अपनी जान की परवाह किए बगैर अपराधियों से लोहा ले ली. पति पंकज कुमार अपराधियों की चाकू से घायल हो गए, जिनका इलाज रिम्स में चल रहा है.

मंगलवार को महिला अपने पति और देवर के साथ बस से उतरकर घर जा रही थी. इसी बीच मुंह में मास्क लगाए दो लुटेरे उनके पास पहुंच गए. अपराधियों ने बाइक को पकड़ा तो सोनी देवी गिर गई और जैसे ही महिला के पति और देवर उन्हें उठाने आगे कि अपराधियों ने चाकू से सोनी देवी के पति पर वार कर दिया. अपराधियों से घिरी महिला ने बहादुरी का परिचय दिया और उनसे भिड़ गई. उसने पास पड़े पत्थर उठाकर अपराधियों पर वार करने लगी.

महिला की इस बहादुरी को देखकर लुटेरे डर गए और वहां से भाग खड़े हुए. इस दौरान अपराधियों ने सोनी देवी का चेन और मंगलसूत्र लूट लिया. महिला की बहादुरी की चर्चा आज हर तरफ हो रही है.

वहीं, दूसरी कहानी मांडर की है. आरोपी अनीता ओरांव पर मां के नाम का ही सौदा करने का आरोप है. उसे मानव तस्करी के आरोप में जेल भेज दिया गया. अनीता को पुलिस ने मांडर से गिरफ्तार किया था. पूछताछ के बाद जो खुलासा हुआ वह बेहद चौंकाने वाला है. आरोपी अनीता ने इस बात को कबूल किया है कि झारखंड की 100 से अधिक लड़कियों को उसने बेचा है. वह बीते 10 वर्षों से ट्रैफिकर का काम कर रही है. एक लड़की के बदले एजेंसी से उसे पांच हजार रुपए बतौर कमीशन मिलते हैं.

राजधानी रांची की इन दो घटनाओं में से एक को महिला सशक्तिकरण की दृष्टि से देखा जा रहा है वहीं, दूसरी कहानी शर्मनाक है.