बिहार में जमीनी स्तर पर कांग्रेस को मजबूत बनाने की कवायद शुरू, विधायक बनेंगे जिला प्रभारी

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने बिहार में जमीनी स्तर पर संगठन को मजबूत बनाने की कवायद शुरू की है जिसके तहत वह राज्य के हर गांव में कमेटी का गठन की जा रही है.

बिहार में जमीनी स्तर पर कांग्रेस को मजबूत बनाने की कवायद शुरू, विधायक बनेंगे जिला प्रभारी
बिहार में कांग्रेस को जमीन स्तर पर मजबूत करने की योजना बनायी गई है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/पटनाः लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने बिहार में जमीनी स्तर पर संगठन को मजबूत बनाने की कवायद शुरू की है जिसके तहत वह राज्य के हर गांव में कमेटी का गठन और पंचायत अध्यक्ष की नियुक्ति करने जा रही है.

इसके साथ ही कांग्रेस ने विधायकों और विधान परिषद सदस्यों को जिला प्रभारी की जम्मेदारी देने का भी फैसला किया है. पार्टी भले ही आरजेडी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़े लेकिन वह राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस राज्य में एक बार फिर से गांव-गांव में अपनी मौजूदगी दर्ज कराना चाहती है.

कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल का कहना है कि अगले कुछ महीनों के भीतर बिहार के सभी पंचायतों और गांवों में पार्टी का संगठन होगा.

गोहिल ने 'भाषा' से बातचीत में कहा, 'बिहार में हमारा प्रदेश, जिला और प्रखंड स्तर पर संगठन मौजूद है. हमें यह महसूस हुआ कि जब तक हम पंचायतों और और गांवों के स्तर पर संगठन निर्माण नहीं करेंगे तब तक जमीनी स्तर पर हम मौजूदगी दर्ज नहीं करा सकते. इसलिए हमने हर पंचायत में पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त करने और हर गांव में पार्टी की कमेटी बनाने का फैसला किया.' 

उन्होंने कहा, ' बिहार में करीब नौ हजार पंचायतें हैं. हर पंचायत के अंतर्गत एक या एक से अधिक गांव हैं. कई पंचायतों में अध्यक्ष की नियुक्ति हो गई है. गांवों में कमेटियां बनाने का काम भी शुरू हो रहा है.' 

गोहिल ने कहा, 'अपने पंचायत या गांव में पहचान रखने वाले और अच्छी छवि वाले लोगों को पंचायत अध्यक्ष और कमेटी का सदस्य बनाया जा रहा है. गांव की आबादी के हिसाब से कमेटी में सदस्यों की संख्या तय की जाएगी.' उन्होंने कहा कि पंचायत और गांव के स्तर पर संगठन निर्माण का काम अगले कुछ महीनों में पूरा हो जाएगा.

(इनपुटः भाषा)