कटिहार पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन, प्रवासियों के लिए नहीं की गई खाने-पीने की व्यवस्था

  स्टेशन पर मासूम बच्चे भूख से चीख-चिल्ला रहे हैं. ट्रेन 24 घंटे में पटना से कटिहार पहुंची है. कटिहार रेलवे स्टेशन पर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रही है. पूरा स्टेशन प्रवासियों से पटा हुआ है.

कटिहार पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन, प्रवासियों के लिए नहीं की गई खाने-पीने की व्यवस्था
कटिहार पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन, प्रवासियों के लिए नहीं की गई खाने-पीने की व्यवस्था. (फाइल फोटो)

कटिहार: देश के विभिन्न राज्यों से प्रवासी ट्रेन कटिहार पहुंच चुकी है. स्टेशन पर प्रवासियों का जनसैलाब उमड़ चुका है. ट्रेन के जरिए कुर्ला से पूरे पांच दिनों में प्रवासी कटिहार पहुंचे हैं और भूखे-प्यासे जिंदगी से जंग लड़ रहे हैं. रेलवे से लेकर जिला प्रशासन प्रवासियों के जनसैलाब की तकलीफ से बेखबर है.

स्टेशन पर मासूम बच्चे भूख से चीख-चिल्ला रहे हैं. ट्रेन 24 घंटे में पटना से कटिहार पहुंची है. कटिहार रेलवे स्टेशन पर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रही है. पूरा स्टेशन प्रवासियों से पटा हुआ है.

प्रवासियों से बातचीत करने पर उन्होंने बताया कि ट्रेन में कुछ भी खाने-पीने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई थी. बिहार में पहुंचने के बाद ट्रेन में एक बोतल पानी भी नहीं मिला. मुंबई से कटिहार पहुंचने में ट्रेन को छः दिन लग गए हैं.

राजधानी ट्रेन भी ढाई घंटे लेट पहुंची. प्रवासियों को कटिहार की जगह लेना असम और गुवाहाटी की टिकट लेनी पड़ी. उन्होंने बताया कि अधिक रुपए देने पड़े दस, जबकि बोगी में सीटें खाली ही आई. कटिहार के पहले नौगछिया स्टेशन पर स्टॉपेज होने के बावजूद नहीं रूकी.
डीएम कंवल तनुज ने कहा कि संसाधनों में कमी रहेगी. प्रवासियों का बिहार के कटिहार में आने का आंकड़ा है सबसे ज्यादा है.