बिहार में मुसहर समाज के युवक शराबबंदी के होंगे 'ब्रांड एंबेस्डर'

पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने सभी लोगों को सम्मानित करने के अलावे सभी को शराबबंदी अभियान में साथ देने के लिए संकल्प दिलाया.

बिहार में मुसहर समाज के युवक शराबबंदी के होंगे 'ब्रांड एंबेस्डर'
मुसहर समाज के युवक शराबबंदी के 'ब्रांड एंबेस्डर' होंगे. (तस्वीर साभार-आईएएनएस)

पटना: बिहार में शराबबंदी अभियान को प्रभावी बनाने के लिए बिहार पुलिस अब ऐसे मुसहर समाज के युवकों को ब्रांड एंबेस्डर बनाएगी जो शराब छोड़ चुके हैं. ये ब्रांड एंबेस्डर शराबबंदी कानून को लेकर न केवल लोगों को जागरूक करेंगे, बल्कि शराब से हो रहे दुष्प्रभाव की भी जानकारी देंगे. इस अभियान में अधिकांश ऐसे लोगों को शामिल किया जा रहा है, जो शराबबंदी के पहले ना केवल शराब का सेवन कर रहे थे, बल्कि शराब बना रहे थे और बेच भी रहे थे. राज्य में शराबबंदी लागू होने के पूर्व ये लोग समाज से कट चुके थे, परंतु राज्य में शराबबंदी ने ऐसे लोगों की जिंदगी फिर से पटरी पर ले आई है.

पटना के पुलिस मुख्यालय में मंगलवार को आयोजित एक समारोह में आए ऐसे कई लोगों को शपथ दिलाई गई और सम्मानित भी किया गया. पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने सभी लोगों को सम्मानित करने के अलावे सभी को शराबबंदी अभियान में साथ देने के लिए संकल्प दिलाया. पांडेय ने मुसहर समाज के युवकों, महिलाओं से शराबबंदी अभियान में साथ देने की अपील की.

पांडेय ने बताया कि ऐसे लोगों के पास डीजी सेल का नंबर और गोपनीय नंबर रहेगा, जो सीधे शराब पीने, पिलाने, बेचने, बेचनेवालों की सूचना देंगे. सूचना मिलते ही थानाप्रभारी संबंधित इलाके में जाएंगे.

इधर, मुसहर सेवा संघ की अध्यक्ष मनोरामा देवी ने भी कहती हैं कि शराब के सेवन से सबसे ज्यादा प्रभावित मुसहर समाज ही हुआ है. इस कारण समाज के लोगों को प्रताड़ित भी किया जाता रहा है. उन्होंने माना कि आज भी गांव में शराब आपूर्ति होती है, परंतु इसे बंद करना होगा.

उल्लेखनीय है कि बिहार में शराबबंदी लागू है, फिर भी प्रतिदिन कहीं ना कहीं से शराब बरामदगी होती रहती है और बोतलों को जेसीबी से चूर किए जाने की खबर मीडिया की सुर्खी बनती रहती है.

(इनपुट-आईएएनएस)