बिहार के शिक्षा मंत्री ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरों पर दी सफाई

सोशल मीडिया पर शेयर हो रही एक तस्वीर में बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन वर्मा जिस जगह बैठे दिख रहे है वहां टेबल पर रखे रंगीन ग्लास ने सियासी हंगामा खड़ा कर दिया है.

बिहार के शिक्षा मंत्री ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरों पर दी सफाई

जहानाबाद (मुकेश कुमार): बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा ने दावा किया है सोशल मीडिया पर उनकी फर्जी तस्वीरें वायरल हो रही है. ऐसा बताया जा रहा है कि मंत्री जी जल्द ही ऐसी साजिश करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज़ करने वाले है. मंत्री वर्मा ने इसे अपने विरोधियों की नापाक साजिश करार देते हुए उनके प्रतिष्ठा से खिलवाड़ करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है. दरअसल में सोशल मीडिया पर शेयर हो रही एक तस्वीर में बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन वर्मा जिस जगह बैठे दिख रहे है वहां टेबल पर रखे रंगीन ग्लास ने सियासी हंगामा खड़ा कर दिया है.

बता दें कि प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने विधानसभा में भी इशारे-इशारों में एक मंत्री के शराब पीने की फोटो सामने आने की बात कही थी. तेजस्वी के बयान के तीन चार दिनों बाद शिक्षा मंत्री के टेबल पर रखे ग्लास में शराब होने की तस्वीरें वायरल होने लगी. होली के वक्त वायरल हो रही मंत्री की तस्वीरों ने बिहार के राजनीतिक गलियारों में खलबली मचा दी और मंत्री जी की पद और प्रतिष्ठा दोनों दांव पर लग गई. 

जानकारी मिली की मंत्री जी बिहार की राजधानी पटना से तकरीबन 75  किलोमीटर दूर अपने पैतृक गांव जहानाबाद के सुगांव में है. सुगांव पहुंचने पर शिक्षा मंत्री अपने घर से बाहर पूरी सादगी के साथ ग्रामीणों से गुफ्तगू करते दिखे. मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा से वायरल हो रही इन तस्वीरों के बारे में पूछा तो उन्होंने कैमरे के सामने सारी हकीकत बयां कर दी.

यह भी पढ़ेंः डीएम की कुर्सी पर बैठे बिहार सरकार के मंत्री, ट्विटर पर हुई खिंचाई

शिक्षा मंत्री ने बताया कि पिछले 16 फरवरी को वे औरंगाबाद जिले के दाउदनगर के भाजपा नेता संजय कुशवाहा के घर गए थे. ये तस्वीरें उनकी घर की कमरे की है. दरअसल में टेबल पर रखा ग्लास रंगीन था और उसमें पानी डालने पर शराब की कलर से मिलता जुलता प्रतीत होता है. उसी ग्लास में रखे पानी को लेकर विरोधियों ने दुष्प्रचार शुरू कर दिया.

आपको बता दें कि इस मामले पर सीएम नीतीश कुमार ने खुद फोन कर मंत्री से वायरल हो रही तस्वीरों की सच्चाई पूछी. मंत्री ने कहा कि इस तरह का शरारत करने वालों के खिलाफ शीघ्र ही मानहानि का मुकदमा दर्ज करने वाले है.