जनरल बिपिन रावत से उनकी नई कैप के बारे में पूछा गया, जवाब मिला...

जनरल बिपिन रावत ने आज देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ (सीडीएस) का पदभार संभाल लिया है.

जनरल बिपिन रावत से उनकी नई कैप के बारे में पूछा गया, जवाब मिला...

नई दिल्‍ली: जनरल बिपिन रावत (Genral Bipin Rawat) ने आज देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ (सीडीएस) का पदभार संभाल लिया है. इस दौरान उन्‍होंने सीडीएस की नई वर्दी धारण की. उनकी कैप में भी तब्‍दीली दिखी. सेना में गोरखा रेजीमेंट से ताल्‍लुक रखने के कारण हमेशा गोरखा कैप पहनने वाले जनरल रावत ने आज पी-कैप पहनी हुई थी. इस दौरान उनसे पत्रकारों ने पूछा कि नई कैप पहन कर कैसा लग रहा है? इस पर उन्‍होंने हल्‍के-फुल्‍के अंदाज में कहा कि 41 साल के बाद कैप बदलने के कारण थोड़ा हल्‍का महसूस कर रहा हूं. इसके साथ ही जोड़ा कि इस कैप और वर्दी को पहनने के बाद वह तीनों सेनाओं के लिहाज से न्‍यूट्रल हो गए हैं.

जनरल बिपिन रावत की नई वर्दी का रंग ऑलिव ग्रीन (जैतूनी हरा) है. इसमें तीनों सेनाओं की वर्दी के सभी घटक हैं. रक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "सीडीएस की वर्दी का रंग मूल सेवा का प्रतिनिधित्व करेगा." प्रतीक चिन्ह में दो आर-पार तलवारें, एक बाज और एक एंकर है. इसके अलावा इसके ऊपर अशोक चिन्ह है. तीनों सेनाओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए सीडीएस की टोपी बैज और उपलब्धियों के साथ अलग होगी. रैंकों को इंगित करने के लिए कंधे पर बैटन के स्थान पर एंकर, तलवार और बाज के साथ ही एक मैरून पैच है, जो तीनों सेवाओं का प्रतिनिधित्व करता है. छाती पर सर्विस रिबन वैसे ही रहेगा, लेकिन वर्दी में डोरी नहीं होगी.

सेना के तीनों अंगों को मिलकर मजबूत बनाएंगे: CDS जनरल बिपिन रावत

इसके साथ ही नई जिम्मेदारी संभालने के बाद मीडिया से बात करते हुए जनरल रावत ने कहा, सीडीएस तीनों सेनाओं पर नियंत्रण रखेगा, हमें तीनों सर्विसिस के जोड़ को तीन नहीं 5 या 7 बनाना है. ये सीडीएस को टास्क दिया गया. इसके अलावा हम रिसोर्स मैनेजमेंट पर ध्यान देंगे. किस तरह से ट्रेनिंग को आगे ले जा सकते हैं उस पर ध्यान दिया जाएगा. इंटीग्रेशन की ओर ध्यान दिया जाएगा. आगे जो भी टास्क मिलेगा उसे सक्षम रूप से करेंगे. हर जिम्मेदारी को निभाएंगे. आगे के प्लान और राजनीति से जुड़े सवाल पर जनरल रावत ने कहा, 'प्लान किसी को बताया नहीं जाता. हम लोग राजनीति से दूर रहते हैं. हम सरकार के आदेशों का पालन करते हैं.'

बता दें कि सीडीएस फोर स्टार जनरल होगा और वह रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले एक नए विभाग, डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री एफेयर्स के सेक्रेटरी के तौर पर काम करेगा और सरकार (राजनैतिक नेतृत्व) को सैन्य मामलों पर सलाह देगा. सरकार ने साफ कर दिया कि सीडीएस सीधे तौर से थलसेना, वायुसेना और नौसेना के कमांड और यूनिट्स को कंट्रोल नहीं करेगा. लेकिन उसके अंतर्गत सेना के तीनों अंगों के साझा कमांड और डिवीजन होंगे. 

सीडीएस की भूमिका?
भारत का पहला तीनों सेनाओं का अध्यक्ष यानी सीडीएस (CDS) रक्षा मंत्रालय के तहत डिपार्टमेंट ऑफ मिलिटरी अफेयर्स का मुखिया होगा. सीडीएस (CDS) रक्षामंत्री से रक्षा मामलों से जुड़े मसलों पर सीधे संपर्क कर सकेगा और राय दे सकेगा. तीनों सेनाओं की सारी सम्मिलित कमान यानी ट्राइ सर्विस कमांड अब सीडीएस (CDS) के अधीन होंगी. करगिल युद्ध के बाद कारगिल रिव्यू कमेटी और नरेश चंद्रा कमेटी ने सीडीएस (CDS) की सिफारिश की थी.