close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: 'नेता जी' जुटे थे हार की समीक्षा करने, कार्यकर्ताओं ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

बैठक में बसपा के महाराष्ट्र प्रभारी की कार्यकर्ता ने जमकर पिटाई की, कपड़े भी फाड़ दिए. बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश प्रभारी और महासचिव संदीप ताजणे की महाराष्ट्र के अमरावती मे स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ सर्किट हाऊस में आयोजित समीक्षा बैठक की. बैठक में कार्यकर्ता ने जमकर खबर ले ली. 

VIDEO: 'नेता जी' जुटे थे हार की समीक्षा करने, कार्यकर्ताओं ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा
BSP नेता को कार्यकर्ताओं ने पीटा.

मुंबई: नेताओं को कुर्सी से बहुत प्यार होता है, लेकिन जब वही कुर्सियां उन पर बरसने लगे तो सोचिए क्या नजारा होता होगा और नेता जी क्या हाल होगा. कैमरे में कैद गई इन तस्वीरों से आप कुर्सी से प्यार और उसी से पिटाई दोनों ही देख और समझ सकते हैं. ये तस्वीरे महाराष्ट्र के अमरावती इलाके में लोकसभा चुनावों में मिली हार पर हुई समीक्षा बैठक की है. 

बैठक में बसपा के महाराष्ट्र प्रभारी की कार्यकर्ता ने जमकर पिटाई की, कपड़े भी फाड़ दिए. बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश प्रभारी और महासचिव संदीप ताजणे की महाराष्ट्र के अमरावती मे स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ सर्किट हाऊस में आयोजित समीक्षा बैठक की. बैठक में कार्यकर्ता ने जमकर खबर ले ली. 

तस्वीरों में दिख रहा है कि कैसे भरी बैठक में गुस्साए कार्यकर्ताओं ने वाशिम जिले के मूल निवासी ताजणे पर पैसे लेकर शेटिंग करने का खुल्लम-खुल्ला आरोप करते हुये पहले उनपर कुर्सिया फेंकी जो उनके चेहरे पर भी लगी. इतने से मन नहीं भरा तो जब वह बैठक छोड़कर जा रहा थे. उनपर टूट पड़े, पहले मारा और फिर कपड़े भी फाड़ दिए. इस पूरी समीक्षा बैठके के दौरान कार्यकर्ताओं का गुस्सा सांतवे आसमान पर था. 

इसी बैठक में हिस्सा लेने इलाके के नगर सेवक चेतन पवार ने वहां पर मौजूद कार्यकर्ताओं को समझाने-बुझाने की अपने तरफ पूरी कोशिश, लेकिन जब लगा कि लोगों को समझाना मुश्किल और और ये अपने पर ही भारी पड़ने वाला है तो चेनत पवार अपने कुछ कार्यकर्ताओं के साथ मौके से निकलना ही सही समझा. 

ये घटना रविवार यानि 17 जून की है. अब इस घटना के बाद हाईकमान को जो करना है कि वो तो वो करेगा, लेकिन इतना तो साबित हो ही गया कि अगर आप कार्रयकर्ताओं के गुस्से में आ गए तो फिर वो आपकी सारी नेतागिरी निकाल कर रख देंगे और चुनाव की तो समीक्षा होती रहेगा, लेकिन आप पर जो चोटे आएगी उसकी समीक्षा के लिए किसी डॉक्टर के पास जाना पड़ सकता हैं और डॉक्टर अपनी सुई- दवाई से आपके इलाज की समीक्ष जरूर से करेगा.