बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल में पीएम नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह? केरल कांग्रेस के दावे का सच जानिए
Advertisement
trendingNow12291557

बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल में पीएम नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह? केरल कांग्रेस के दावे का सच जानिए

BJP Margdarshak Mandal: केरल कांग्रेस ने आधिकारिक X अकाउंट पर कहा कि बीजेपी की वेबसाइट पर पीएम नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह को मार्गदर्शक मंडल में रखा गया है. जानें इस दावे के पीछे की कहानी क्या है.

बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल में पीएम नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह? केरल कांग्रेस के दावे का सच जानिए

BJP Margdarshak Mandal Members: क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को बीजेपी ने मार्गदर्शक मंडल का हिस्सा बना दिया है? गुरुवार को यह सवाल अचानक सोशल मीडिया पर तैरने लगा. वजह थी केरल कांग्रेस की ओर से X (पहले ट्विटर) पर किया गया एक पोस्ट. @INCKerala हैंडल से एक तस्वीर और बीजेपी की वेबसाइट का लिंक शेयर किया गया. फोटो में 'मार्गदर्शक मंडल' में मोदी और राजनाथ को भी दिखाया गया था.

केरल कांग्रेस ने कैप्शन में लिखा, 'भाजपा की वेबसाइट के अनुसार मोदी और राजनाथ सिंह आधिकारिक तौर पर मार्गदर्शक मंडल में शामिल हो गए हैं. क्या यह संकेत है कि फ्लोर टेस्ट विफल होने जा रहा है और क्या यह आपदा के बाद पेज का ड्राई रन है?' देश की सबसे पुरानी पार्टी शायद अति-उत्साह में यह चेक करना भूल गई कि मोदी और राजनाथ तो 2014 से ही मार्गदर्शक मंडल में हैं.

2014 में अमित शाह ने की थी नियुक्ति

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने मई 2014 में केंद्र की सत्ता हासिल की. तीन महीने बाद, तत्कालीन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मार्गदर्शक मंडल का गठन किया. बीजेपी के पांच सीनियर नेताओं को इस मार्गदर्शक मंडल का सदस्य बनाया गया. शाह के इस फैसले की जानकारी बीजेपी ने 26 अगस्त, 2014 को एक प्रेस रिलीज में दी थी. उस समय मार्गदर्शक मंडल में मोदी और राजनाथ के अलावा पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी, पूर्व डिप्टी पीएम लालकृष्ण आडवाणी और दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी शामिल थे.

दिसंबर 2018 में, वाजपेयी के निधन के बाद मार्गदर्शक मंडल के सदस्यों की संख्या चार रह गई. बीजेपी की ऑफिशियल वेबसाइट पर मार्गदर्शक मंडल के पेज को भी अपडेट कर दिया गया. इसी वजह से अब वहां वाजपेयी को छोड़ बाकी चार सदस्यों का ब्यौरा मौजूद है.

केरल कांग्रेस ने बीजेपी पर निशाना साधने के चक्कर में पूरी तरह से तथ्‍य नहीं जांचे. अब सोशल मीडिया पर उसका फैक्ट-चेक किया जा रहा है.

Trending news