बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान को नहीं मिलेगी भारतीय एयरस्‍पेस में दाखिल होने की इजाजत

शाम चार बजे तक बोइंग 737-800 मैक्‍स विमानों को अपने बेस या गंतव्‍यों तक पहुंचने की विमानन मंत्रालय ने दी है इजाजत, बुधवार शाम से अगले आदेश तक भारतीय एयर स्‍पेस बोइंग737-800 मैक्‍स विमानों के लिए पूरी तरह हो जाएगा प्रतिबंधित. 

बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान को नहीं मिलेगी भारतीय एयरस्‍पेस में दाखिल होने की इजाजत
फाइल फोटो
Play

नई दिल्‍ली: विमानन मंत्रालय ने भारतीय एयरस्‍पेस में बोइंग 737-800 मैक्‍स के प्रवेश पर रोक लगा दी है. विमानन मंत्रालय के इस फैसले के तहत शाम 4 बजे के बाद भारतीय एयरस्‍पेस बोइंग 737-800 मैक्‍स पूरी तरह से प्रतिबंधित हो जाएगा. विमानन मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी ने स्‍पष्‍ट किया है कि यह प्रतिबंधन न केवल भारतीय मूल की एयरलाइंस पर लागू होगा, बल्कि दूसरे देशों की अंतरराष्‍ट्रीय एयरलाइंन पर भी लागू होगा. उन्‍होंने बताया कि अगले आदेश तक भारतीय एयरस्‍पेस से दुनिया की किसी भी एयरलाइंस के  बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान को गुजरने की इजाजत नहीं दी जाएगी. 

क्‍यों दी गई शाम 4 बजे तक की इजाजत
विमानन मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि भारत में स्‍पासइ जेट और जेट एयरवेज  बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान का परिचालन करते हैं. जेट एयरवेज के सभी बोइंग 737-800 मैक्‍स विमानों को पहले ही ग्राउंड किया जा चुका है, वहीं मंगलवार रात्रि तक स्‍पाइस जेट के बोइंग 737-800 मैक्‍स विमानों का परिचालन जारी था. स्‍पाइस जेट एयरलाइन करीब आठ अंतरराष्‍ट्रीय गंतव्‍यों में विमानों का परिचालन करती है. लिहाजा, एयरलाइंस को शाम चार बजे तक की मोहलत दी गई है कि वह विदेश में मौजूद  बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान को देश में वापस बुला सकें. 

एयरपोर्ट ऑपरेटर्स को डीजीसीए ने जारी किए ये निर्देश
इसी तरह, अपने बेस से उड़ान भर चुकी विदेशी एयरलाइंस के बोइंग 737-800 मैक्‍स को अपने गंतव्‍य तक पहुंचने के लिए शाम चार बजे तक भारतीय एयरस्‍पेस के इस्‍तेमाल की इजाजत दी गई है. शाम चार बजे के बाद किसी भी एयरलाइंस के बोइंग 737-800 मैक्‍स को भारतीय एयरस्‍पेस के इस्‍तेमाल की इजाजत नहीं दी जाएगी. चाहे फिर वह भारतीय मूल की एयरलाइंस हो या फिर विदेशी एयरलाइंस का बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान हो. विमानन मंत्रालय के फैसले के बाबत अधिकारी ने बताया कि डीजीसीए ने बुधवार सुबह देश के सभी एयरपोर्ट ऑपरेटर्स को बोइंग 737-800 मैक्‍स के परिचालन की इजाजत नहीं देने का निर्देश जारी कर दिए हैं.

इथोपियन एयरलाइन के विमान क्रैश के बाद शुरू हुई है कवायद 
उल्‍लेखनीय है कि रविवार को इथोपियन एयरलाइंस का बोइंग 737-800 मैक्‍स इथोपिया के आदीस अबाबा के समीप क्रैश हो गया था. इस विमान दुर्घटना में करीब 157 लोगों की मौत हो गई थी. विमान दुर्घटना में जान गंवाने वालों में 149 यात्री और 8 क्रू सदस्‍य शामिल थे. वहीं, इस घटना से पहले 29 अक्‍टूबर को इंडोनेशिया की लायन का बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान क्रैश हो गया था. इस विमान हादसे में चालक दल सहित 189 यात्रियों की मृत्‍यु हो गई थी. इन दोनों विमान दुर्घटनाओं के बाद पूरी दुनिया में बोइंग 737-800 विमान को लेकर दहशत का माहौल बन गया है. 

दोनों हादसों की असल वजह सामने आने के पहले कोई भी एयरलाइंस इस विमान का परिचालन नहीं करना चाहता है. यात्रियों की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए मंगलवार रात्रि भारतीय विमानन मंत्रालय ने इस विमान के परिचालन पर प्रतिबंध लगा दिया है.  अब तक दुनिया की एक दर्जन से अधिक एयलाइंस ने न केवल इस विमान पर प्रतिबंध लगाया है, बल्कि कई देशों ने अपने एयरस्‍पेस को इस विमान के लिए प्रतिबंधित कर दिया है.