कश्मीर में ब्रॉडबैंड सेवा आज से शुरू, जम्मू में 2G मोबाइल इंटरनेट बहाल

जम्मू में ब्रॉडबैंड और मोबाइल SMS पहले से चालू है. 

कश्मीर में ब्रॉडबैंड सेवा आज से शुरू, जम्मू में 2G मोबाइल इंटरनेट बहाल
प्रतीकात्मक तस्वीर

जम्मू: कश्मीर (Kashmir) घाटी में जरूरी सेवाओं जैसे होटल, शिक्षण संस्थानों, यात्रा के लिए ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस (Broadband Internet Service) शुरू करने का फैसला लिया गया है. वहीं जम्मू  (Jammu) में 2G मोबाइल इंटरनेट सर्विस (Mobile Internet Srvice) शुरू हो जाएगी. आपको बता दें कि जम्मू में ब्रॉडबैंड और मोबाइल SMS पहले से चालू है. जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल के साथ हुई बैठक में ये फैसला लिया गया है. 

गौरतलब है कि 10 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाओं पर फैसला देते हुए कहा था इंटरनेट बैन और सभी तरह की पाबंदियों की हफ्ते के भीतर समीक्षा हो और जहां जरूरी हो, वहां इन्हें तुरंत बहाल करें. 

कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद की परिस्थितियों पर विचार किया. इस दौरान सुप्रीम कोर्ट जम्मू कश्मीर में इनटरनेट पर पाबंदी के खिलाफ टिप्पणी की. SC ने कहा कि अुनच्‍छेद 19 में लोगों को इंटरनेट की आजादी का हक है. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जम्मू कश्मीर में इंटरनेट पर प्रतिबंध की तत्काल प्रभाव से समीक्षा की जाए. जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने यह फैसला सुनाया.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि इंटरनेट लोगों का मौलिक अधिकार है. इंटरनेट अनिश्चितकाल के लिए बंद नहीं किया जा सकता. जम्मू कश्मीर में इंटरनेट पर लगी पाबंदी को हटाने के लिए सरकार स्थिति की समीक्षा तत्काल करे.

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से जम्मू कश्मीर में सरकारी वेबसाइटों और ई-बैंकिंग सुविधाओं तक पहुंच की अनुमति देने पर विचार करने को कहा. साथ ही कहा कि रिव्‍यू कमेटी द्वारा हर 7 दिनों में क्षेत्र में इंटरनेट प्रतिबंधों की आवधिक समीक्षा की जानी चाहिए. इंटरनेट को बंद करने की कार्रवाई आर्टिकल 19(2) के सिद्धांतों के अनुरूप ही होनी चाहिए.

SC ने कहा कि सरकार धारा 144 का इस्तेमाल विचारों की विविधता को दबाने के लिए नहीं कर सकती. इतना ही नहीं सरकार सभी पाबंदी संबंधी आदेश न दिखाने की छूट होने का दावा भी नहीं कर सकती.

ये वीडियो भी देखें: