जम्मू-कश्मीर: PAK गोलाबारी में BSF जवान शहीद, चार नागरिकों की मौत

बीएसएफ के महानिरीक्षक ( जम्मू फ्रंटियर ) राम अवतार ने कहा कि स्थिति ‘ तनावपूर्ण ’ है और अर्धसैनिक बल पाकिस्तान को माकूल जवाब दे रहे हैं.

जम्मू-कश्मीर: PAK गोलाबारी में BSF जवान शहीद, चार नागरिकों की मौत
(प्रतीकात्मक फोटो)

जम्मू : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जम्मू - कश्मीर दौरे से एक दिन पहले शुक्रवार को जम्मू में सीमा से लगी चौकियों और गांवों में पाकिस्तान रेंजर्स की ओर से की गई भारी गोलाबारी में बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया और चार नागरिकों की मौत हो गई. इस घटना में 12 अन्य लोग जख्मी हो गए. पाकिस्तानी सैनिकों ने लगातार चौथे दिन अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे इलाकों को निशाना बनाया. इससे सरहद के निकट रहने वाले लोगों में दहशत का माहौल है. 

बीएसएफ के महानिरीक्षक ( जम्मू फ्रंटियर ) राम अवतार ने कहा कि स्थिति ‘ तनावपूर्ण ’ है और अर्धसैनिक बल पाकिस्तान को माकूल जवाब दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि इससे पाकिस्तान को बहुत अधिक नुकसान हो रहा है.

बीएसएफ ने पाकिस्तानी चौकियों पर जवाबी गोलीबारी की
आईजी ने कहा, ‘फसल काटने का मौसम खत्म होने के बाद गोलीबारी और गोलाबारी की आशंका थी. हमने उचित कार्रवाई की है.’  उन्होंने कहा कि बीएसएफ ने पाकिस्तानी चौकियों पर जवाबी गोलीबारी की. अवतार ने कहा कि पाकिस्तानी टीवी चैनलों के कवरेज में इसे देखा जा सकता है. 

बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू के आर एस पुरा, बिश्नाह, अरनिया सेक्टरों में देर रात करीब एक बजे से मोर्टार दागना और गोलीबारी करना तेज कर दिया. उन्होंने बताया कि सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवानों ने हमलों का जवाब दिया. 

गोलीबारी में एक जवान शहीद
अधिकारियों ने बताया कि शहीद जवान की पहचान 192 वीं बटालियन के 28 वर्षीय कांस्टेबल सीताराम उपाध्याय के तौर पर हुई है. वह जब्बोवाल सीमा चौकी पर रात करीब डेढ़ बजे गंभीर रूप से घायल हो गए थे. जम्मू के जीएमसी अस्पताल ले जाते समय उन्होंने दम तोड़ दिया था. उन्होंने बताया कि वह झारखंड के गिरीडीह के रहने वाले थे और 2011 में बल में शामिल हुए थे. उपाध्याय के परिवार में तीन वर्षीय बेटा और एक वर्षीय बेटी है. अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ के एक सहायक उप - निरीक्षक पित्तल सीमा चौकी पर घायल हो गए थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. 

अतिरिक्त जिला विकास आयुक्त अरुण मनहास ने बताया कि आर एस पुरा और अरनिया सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से भारी गोलाबारी में एक दंपति सहित चार लोग मारे गए और 12 अन्य लोग घायल हो गए. आर एस पुरा के एसडीपीओ साहिल पराशर ने बताया कि गोलाबारी ग्रस्त इलाकों से घायलों को निकालने और उन्हें अस्पताल पहुंचाने के लिए पुलिस बुलेटप्रूफ वाहनों का इस्तेमाल कर रही है.

आश्रय स्थलों को सक्रिय किया गया
गोलाबारी के मद्देनजर प्रशासन ने आश्रय स्थलों को सक्रिय कर दिया है. बहरहाल , कठुआ और सांबा जिलों में गोलाबारी थम गई है. अधिकारी ने कहा , ‘‘ कठुआ और सांबा जिलों में कल से सीमा - पार से कोई गोलाबारी या गोलीबारी नहीं हुई है. ’’ 

बीएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि अर्धसैनिक बल ने आर एस पुरा सेक्टर के विपरीत स्थित एक पाकिस्तानी चौकी को निशाना बनाया और पाकिस्तानी बलों को भारी नुकसान पहुंचाया. 

गुरुवार को भी पाक ने की थी गोलीबारी
जम्मू - कश्मीर के कठुआ और सांबा जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर गुरुवार को पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा 15 सीमा चौकियों पर गोलीबारी और गोला दागने की घटना में बीएसएफ के एक जवान सहित दो लोग घायल हो गए थे. 

सांबा सेक्टर में 15 मई को पाकिस्तानी सैनिकों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पार करने में घुसपैठियों की मदद करने के लिए संघर्ष विराम का उल्लंघन कर अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की. इस घटना में बीएसएफ का 28 वर्षीय एक जवान शहीद हो गया था. सैनिकों ने 12 मई से अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घुसपैठ की चार कोशिशें नाकाम की हैं. 

(इनपुट - भाषा)