close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जवान तेज बहादुर के आरोपों पर BSF आज गृह मंत्रालय को सौंपेगा रिपोर्ट

बीएसएफ के जवान तेज बहादुर के वीडियो पर आज बीएसएफ गृह मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सीमा सुरक्षा बल  से एक जवान के इस दावे से जुड़े मामले में आज रिपोर्ट मांगी है कि नियंत्रण रेखा पर सैनिकों को घटिया खाना खिलाया जाता है। सोशल मीडिया पर इस जवान के पोस्ट करने के बाद प्रशासन ने आरोपों की जांच का निर्देश दिया है।

जवान तेज बहादुर के आरोपों पर BSF आज गृह मंत्रालय को सौंपेगा रिपोर्ट

नई दिल्ली: बीएसएफ के जवान तेज बहादुर के वीडियो पर आज बीएसएफ गृह मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सीमा सुरक्षा बल  से एक जवान के इस दावे से जुड़े मामले में आज रिपोर्ट मांगी है कि नियंत्रण रेखा पर सैनिकों को घटिया खाना खिलाया जाता है। सोशल मीडिया पर इस जवान के पोस्ट करने के बाद प्रशासन ने आरोपों की जांच का निर्देश दिया है।

अधिकारियों के मुताबिक बीएसएफ मुख्यालय इस मामले में गृह मंत्रालय को पहले ही प्राथमिक रिपोर्ट दे चुका है और पूर्ण रिपोर्ट जम्मू कश्मीर में तैनात उपमहानिरीक्षक स्तर का अधिकारी द्वारा तैयार की जा रही है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कल इस वीडियो का संज्ञान लिया था और इस घटना के सिलसिले में उपयुक्त कार्रवाई करने का आदेश दिया था।

सोशल मीडिया पर अपलोड किए गए वीडियो में वर्दी में और राइफल लिए इस जवान ने दावा किया है कि सरकार उनके लिए आवश्यक चीजें खरीदती हैं लेकिन उच्च अधिकारी उसे ‘अवैध तरीके से बाजार में बेच देते हैं। ’ उसने यह भी आरोप लगाया कि जवानों को क्रूरता का सामना करना पड़ता है क्योंकि उन्हें घटिया खाना खिलाया जाता है और कई बार तो उन्हें खाली पेट रह जाना पड़ता है। यह जवान हरियाणा के महेंद्रगढ़ के रहने वाला है और वह 1996 में बीएसएफ में शामिल हुआ था ।
यादव फिलहाल जम्मू कश्मीर के राजौरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर तैनात हैं। उन्हें लंबित कोर्ट आफ इन्क्वायरी के लिए समीप की बटालियन में स्थानांतरित किया गया है।

इस वीडियो के सामने आने के बाद राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया था, ‘मैंने बीएसएफ जवान की दयनीय स्थिति का वीडियो देखा है। मैंने गृह सचिव से बीएसएफ से तत्काल रिपोर्ट मांगने एवं उपयुक्त कार्रवाई करने को कहा है।’दिन में पहले बीएसएफ ने कहा था कि इन वीडियो को पोस्ट करने वाले कांस्टेबल तेज बहादुर यादव का वर्ष 2010 में अनुशासनहीनता एवं अपने वरिष्ठ अधिकारी पर बंदूक तान देने को लेकर कोर्ट मार्शल हुआ। हालांकि उसने (बल ने) साथ ही यह भी आश्वासन दिया कि उसके आरोपों की सघन जांच होगी।