close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मिजोरम में चुनाव प्रचार समाप्त, 28 नवंबर को डाले जाएंगे वोट

राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) आशीष कुंदरा ने बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान कराने के लिए सभी तैयारियां पूरी हो गई हैं. 

मिजोरम में चुनाव प्रचार समाप्त, 28 नवंबर को डाले जाएंगे वोट
(प्रतीकात्मक फोटो)

आइजोल: मिजोरम में 40 सदस्यीय विधानसभा के लिए सोमवार को शाम चार बजे चुनाव प्रचार समाप्त हो गया.  राज्य में बुधवार को मतदान होगा जहां 7,70,395 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे.

राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) आशीष कुंदरा ने बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान कराने के लिए सभी तैयारियां पूरी हो गई हैं. कुंदरा ने कहा कि वह प्रबंधों से ‘पूरी तरह संतुष्ट’ हैं.

पूर्वोत्तर में मिजोरम एकमात्र राज्य है जहां कांग्रेस की सरकार है. राज्य में कांग्रेस 2008 से सत्ता में है और उसकी नजरें तीसरी बार सरकार बनाने पर हैं.  वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 34 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के खाते में पांच और मिजोरम पीपुल्स कांफ्रेंस की झोली में एक सीट आई थी.

कांग्रेस और मुख्य विपक्षी एमएनएफ ने 40-40 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किये हैं जबकि भाजपा 39 सीटों पर मैदान में है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी चुनाव प्रचार के लिए राज्य पहुंचे.

मध्य प्रदेश में भी थमा प्रचार 
इसी के साथ मध्य प्रदेश विधानसभा के 28 नवंबर को होने वाले चुनाव में मतदाताओं को अपने पक्ष में प्रभावित करने के लिए सत्तारुढ़ बीजेपी और विपक्षी कांग्रेस सहित सभी राजनीतिक दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों का धुंआधार चुनाव प्रचार सोमवार शाम को थम गया. 

मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में 45,000 महिला कर्मचारियों की सेवाएं ली जाएंगी. इसके साथ ही मतदान के दिन 1.80 लाख सुरक्षाकर्मी सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालेंगे.

देश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (सीईओ) वीएल कांता राव ने बताया कि प्रदेश में कुल 3,00,782 कर्मचारी चुनाव कार्य में लगेंगे. इनमें 45,904 महिला कर्मचारी शामिल हैं. देश में 65,367 मतदान केन्द्रों पर चुनाव कराया जा रहा है. उन्होंने बताया कि इसके साथ ही स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिये 1.80 लाख सुरक्षा कर्मी तैनात किये जाएंगे. इनमें केन्द्रीय और राज्य के सुरक्षाकर्मी शामिल हैं.

(इनपुट - भाषा)