कोरोना वायरस: राज्‍यों ने मांगे थे पैसे, केंद्र ने खोली तिजोरी, 11,092 करोड़ रुपये देने का ऐलान

गृह मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बृहस्पतिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्रियों को दिये गये आश्वासन के बाद इस निधि को स्वीकृति दी गई है.

कोरोना वायरस: राज्‍यों ने मांगे थे पैसे, केंद्र ने खोली तिजोरी, 11,092 करोड़ रुपये देने का ऐलान

नई दिल्‍ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिये शुक्रवार को सभी राज्यों को राज्य आपदा जोखिम प्रबंधन कोष (एसडीआरएफएफ) के तहत पृथकवास बनाने तथा अन्य सुविधाओं के वास्ते 11,092 करोड़ रुपये की राशि जारी करने को मंजूरी दी. गृह मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बृहस्पतिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्रियों को दिये गये आश्वासन के बाद इस निधि को स्वीकृति दी गई है.

मंत्रालय के एक बयान के अनुसार गृह मंत्री ने सभी राज्यों को एसडीआरएमएफ के तहत 11,092 करोड़ रुपये की राशि जारी करने के लिए स्वीकृति दे दी है. बयान में कहा गया कि पृथकवास सुविधाएं बनाने, नमूने एकत्रित करने और स्क्रीनिंग करने, अतिरिक्त जांच प्रयोगशालाएं बनाने, स्वास्थ्य, निगम, पुलिस तथा दमकल कर्मियों के लिए निजी सुरक्षा उपकरणों को खरीदने, थर्मल स्कैनर, वेंटिलेटर, एयर प्यूरीफायर आदि खरीदने में इस निधि का उपयोग किया जाएगा.

LIVE TV

क्या हवा में फैलता है कोरोना? WHO ने आखिरकार बता दी सच्‍चाई, जल्‍दी से पढ़ लीजिए

गृह मंत्रालय ने कहा कि राज्य सरकारों को कोविड-19 की रोकथाम के लिए कदम उठाने के लिहाज से अतिरिक्त निधि उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार ने 14 मार्च को एसडीआरएफ के इस्तेमाल के लिए विशेष प्रावधान किया.

केंद्र सरकार ने 28 मार्च को राज्य सरकारों और केंद्रशासित प्रदेशों से राज्य आपदा मोचन निधियों का इस्तेमाल करने को कहा जहां अगले वित्त वर्ष के लिए 29,000 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गयी है ताकि 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को भोजन और आश्रय दिया जा सके.

(इनपुट: एजेंसी भाषा)