चंडीगढ़ में एयर क्वालिटी हुई बेहद खराब, हवा में सांस लेना हो सकता हानिकारक

दिवाली के बाद चंडीगढ़ की एयर क्वालिटी बेहद खराब हो गई है. कई जगह पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 350 से ज्यादा अंकों तक पहुंच गया जिसे बेहद खराब माना जाता है. 

चंडीगढ़ में एयर क्वालिटी हुई बेहद खराब, हवा में सांस लेना हो सकता हानिकारक
चंडीगढ की हवा के प्रदूषित होने का कारण सिर्फ पटाखे नहीं बल्कि पंजाब में पराली जलाना भी है.

चंडीगढ़: दिवाली के बाद चंडीगढ़ की एयर क्वालिटी बेहद खराब हो गई है. कई जगह पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 350 से ज्यादा अंकों तक पहुंच गया जिसे बेहद खराब माना जाता है. ऐसी हवा में सांस लेना हानिकारक हो सकता है. चंडीगढ़ के चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट देवेंद्र दलाई ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले इस साल दीवाली की रात चंडीगढ़ में प्रदूषण बढ़ा है. वहीं ध्वनि प्रदूषण में कमी आई है. चंडीगढ़ में सेक्टर 22 में तो AQI 371 तक पहुंच गया वहीं इंम्टेक सेक्टर 39 में एयर क्वालिटी इंडेक्स 352, और सेक्टर 12 में 280 और सेक्टर 17 में 247 दर्ज किया गया. यानि कि चंडीगढ़ की एयर क्वालिटी कहीं खराब है तो कहीं बेहद खराब. देवेंद्र दलाई ने कहा कि चंडीगढ़ की हवा के प्रदूषित होने का कारण सिर्फ पटाखे नहीं बल्कि पंजाब में पराली जलाना भी है.

पर्यावरण विभाग के अधिकारी देवेंद्र दलाई ने बताया कि दिवाली से पहले ही चंडीगढ़ का एयर क्वालिटी इंडेक्स 273 पहुंच गया था यानि कि पटाखे जलने से पहले ही चंडीगढ़ के लोग खराब एयर क्वालिटी में सांस ले रहें थे. उन्होंने कहा कि हवाओं की डायेरक्शन की बात करें तो पंजाब में पराली जलने का असर चंडीगढ़ में पड़ता है ये भी एक कारण है कि चंडीगढ़ की वायू प्रदूषित हो रही है. उन्होंने कहा आने वाले दिनों में पंजाब के संबधित विभाग से इस बारें में मीटिंग की जाएगी तांकि चंडीगढ़ की आवोहवा और जहरीली न हो.

air quality

देवेंद्र दलाई ने कहा प्रदूषण का बढ़ना पटाखों और आतिशबाजी के अलावा मौसम पर भी निर्भर करता है. उन्होंने कहा कि दिवाली से पहले आद्रता की मात्रा काफी ज्यादा बनी हुई थी. यह आद्रता शाम के वक्त 80% तक पहुंच रही थी. इस वजह से दिवाली की रात पटाखों से निकला प्रदूषण ऊपर नहीं जा पाया और वह निचली हवा में ही रह गया. इसलिए आद्रता की वजह से भी वायु प्रदूषण में बढ़ोतरी दर्ज की गई. 

LIVE टीवी:

दिवाली के अगले दिन यानि कि सोमवार को कुछ जगहों पर प्रदूषण में कमी भी दर्ज की गई. जैसे दिवाली वाले दिन इंम्टेक और सेक्टर 22 में एक्यूआई 350 से ज्यादा हो गया था. वही सोमवार को यह कम होकर 187 तक आ गया.  इसके अलावा सेक्टर 17 का एक्यूआई 110 , सेक्टर 12 का 143 और सेक्टर 50 का एक एक्यूआई 230 पर आ गया. अगले चौबीस घंटों में है इसके सामान्य स्तर तक पहुंचने के आसार हैं. चंडीगढ़़ में जहां एक तरफ वायु प्रदूषण में बढ़ोतरी दर्ज की गई है वहीं ध्वनि प्रदूषण में पिछले साल के मुकाबले कमी दर्ज की गई है.