close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चेन्नई: AIADMK के 140 पदाधिकारियों पर गिरी गाज, लगा यह बड़ा आरोप

अन्नाद्रमुक नेताओं ओ. पनीरसेल्वम और के पलानीस्वामी ने तूतीकोरिन जिले से संबद्ध 140 पार्टी पदाधिकारियों को संगठन को बदनाम करने के आरोप में पार्टी से निकाल दिया.

चेन्नई: AIADMK के 140 पदाधिकारियों पर गिरी गाज, लगा यह बड़ा आरोप
पलानीस्वामी ने बयान में कहा कि पार्टी सिद्धांतों के खिलाफ जाने और अन्नाद्रमुक को बदनाम करने के कारण उक्त व्यक्तियों को पार्टी से निकाला जाता है.(फाइल फोटो)

चेन्नई: अन्नाद्रमुक नेताओं ओ. पनीरसेल्वम और के पलानीस्वामी ने तूतीकोरिन जिले से संबद्ध 140 पार्टी पदाधिकारियों को संगठन को बदनाम करने के आरोप में पार्टी से निकाल दिया. एक संयुक्त बयान में दोनों नेताओं ने जिले में अन्नाद्रमुक की विभिन्न संगठनात्मक इकाइयों से संबद्ध 144 पदाधिकारियों को निकाले जाने की घोषणा की.

अन्नाद्रमुक के समन्वयक पनीरसेल्वम और इसके सह-समन्वयक पलानीस्वामी ने बयान में कहा कि पार्टी सिद्धांतों के खिलाफ जाने और अन्नाद्रमुक को बदनाम करने के कारण उक्त व्यक्तियों को पार्टी से निकाला जाता है. उन्होंने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से निष्कासित व्यक्तियों से किसी तरह का कोई संबंध नहीं रखने को कहा. इससे पहले भी वे कई पदाधिकारियों को पार्टी से निकाल चुके हैं और दिनाकरण के कई करीबी सहयोगियों से पार्टी पद छीन चुके हैं.

यह भी पढ़ें- दिनाकरण का समर्थन करने पर AIADMK ने 6 पदाधिकारियों को निकाला

उन्होंने पार्टी की कांचीपुरम इकाई से जुड़े 53 लोगों तथा अन्नाद्रमुक की ट्रेड यूनियन इकाई से जुड़े पांच अन्य लोगों को निष्कासित कर दिया था. 

 AIADMK ने 6 पदाधिकारियों को निकाला
पिछले साल के 25 दिसंबर को अन्नाद्रमुक ने विरोधी गुट के नेता टीटीवी दिनाकरण का समर्थन करने पर छह पदाधिकारियों को पद से हटा दिया था. उन्होंने अन्नाद्रमुक के अपने प्रतिद्वंद्वी ई मधुसूधनन को 40,000 से ज्यादा वोटों से शिकस्त दी थी. दिनकरण को कुल 89013 वोट मिले थे जबकि अन्नाद्रमुक के अपने प्रतिद्वंद्वी ई मधुसूधनन को 48306 वोट मिले. बीजेपी को महज 1417 वोट मिले. जयललिता ने 2015 के उपचुनाव और 2016 के विधानसभा चुनाव में आर के नगर से जीती थीं.पार्टी सूत्रों के मुताबिक, टीटीवी दिनाकरण का साथ देने की बात पता चलने पर छह पदाधिकारियों को पद से हटा दिया गया था. हालांकि, इनके नाम अब तक सामने नहीं आ सके थे. पार्टी की ओर से भी अभी इस मामले में कोई बयान जारी नहीं किया गया था. 

क्षेत्रीय पार्टियों में  AIADMK दूसरे नंबर पर
एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि 2015-16 के दौरान द्रमुक की आय 77.63 करोड़ रुपये थी जो सभी क्षेत्रीय दलों में सर्वाधिक थी. इसके बाद अन्नाद्रमुक की आय थी और उसके पास 54.93 करोड़ रुपये की राशि जमा हुई. तेलगू देशम पार्टी के पास 15.97 करोड़ रुपये जमा हुए.

एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार, '2015-16 के लिए 32 क्षेत्रीय दलों की कुल आय 221.48 करोड़ रुपये थी, जिसमें से पार्टियों ने 111.48 करोड़ खर्च किए और 110 करोड़ रुपये की राशि बिना खर्च की हुई रह गई'. दिल्ली स्थित संस्था ने कहा कि कुल 47 क्षेत्रीय दल हैं, जिनमें से 15 ने 2015-16 के लिए अपनी ऑडिट रिपोर्ट चुनाव आयोग को आज तक जमा नहीं की है, जिनमें सपा और राजद भी हैं.

एडीआर ने कहा कि पार्टियों के लिए सालाना ऑडिट किए हुए खाते जमा करने की अंतिम तारीख 31 अक्तूबर, 2016 थी. सर्वाधिक खर्च करने वाले तीन क्षेत्रीय दलों में सबसे ऊपर जदयू रही, जिसने 23.46 करोड़ रुपये खर्च किए. उसके बाद तेलगू देशम पार्टी ने 13.10 करोड़ रुपये और आम आदमी पार्टी ने 11.09 करोड़ रुपये खर्च किए.

इनपुट भाषा से भी