सॉफ्टवेयर कंपनी का पूर्व कर्मचारी निकला 50 महिलाओं का रेपिस्‍ट, जानिए कैसे पकड़ में आया

जांचकर्ताओं ने कहा, "आरोपी कृष्‍णागिरी कॉलेज से बीएससी (गणित) पास है और 2015 में चेन्‍नई आने से पहले वह बेंगलुरु की एक सॉफ्टवेयर फर्म में काम करता था".

सॉफ्टवेयर कंपनी का पूर्व कर्मचारी निकला 50 महिलाओं का रेपिस्‍ट, जानिए कैसे पकड़ में आया
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

चेन्‍नई : शहर की पुलिस ने गुरुवार को कहा कि लूट के मामले में गिरफ्तार किया गया सॉफ्टवेयर कंपनी का एक पूर्व कर्मचारी एक सीरियल रेपिस्‍ट था, जोकि चेन्‍नई में 50 से ज्‍यादा महिलाओं का यौन उत्‍पीड़न कर चुका था. जांचकर्ता उस समय दंग रह गए, जब उन्‍होंने लूट के एक मामले में कृष्णागिरि जिले के माथुर के रहने वाले मधान अरीवलागन से पूछताछ के दौरान उसके सेलफोन का निरीक्षण किया और वे डिवाइस में मौजूद रिकॉर्ड्स को देखा.

टाइम्‍स ऑफ इंडिया के अनुसार, एक जांच अधिकारी ने कहा, 'आरोपी महिलाओं को घर में अकेला पाकर उनका यौन उत्‍पीड़न करता था. उसने कुछ मामलों में अपने इस कृत्‍य की रिकॉर्डिंग फोन में कर ली थी, जिसका इस्‍तेमाल वो बाद में महिलाओं को ब्‍लैकमेल कर दोबारा उनका रेप करने के लिए करता था'. 

अधिकारी ने आगे कहा, "हमें अरीवलागन के खिलाफ पहली औपचारिक बलात्कार की शिकायत मिली है और उससे आगे के मामले भी हमारी नजर में हैं". जांचकर्ताओं ने कहा, "आरोपी कृष्‍णागिरी कॉलेज से बीएससी (गणित) पास है और 2015 में चेन्‍नई आने से पहले वह बेंगलुरु की एक सॉफ्टवेयर फर्म में काम करता था".

मामले के जांच अधिकारी ने कहा, "अरीवलागन ने पूछताछ में बताया कि वह शहर में नौकरी ढूंढ रहा था, लेकिन लेकिन उपयुक्त रोजगार नहीं मिल सका". अधिकारी ने आगे बताया कि "उसने लोगों को सड़कों और घरों में लूटना शुरू कर दिया. वह अक्सर उन महिलाओं को निशाना बनाता था, जो घर में अकेले हुआ करती थीं. इसके बाद तो जैसे वह वह यौन उत्‍पीड़क बन गया".

पुलिस ने गुरुवार को उसे एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की शिकायत पर हिरासत में लिया. उसने शिकायत में बताया था कि एक लुटेरे ने घर के बाहर चाकू की नोंक पर उससे करीब साढ़े 8 हजार रुपये लूट लिए थे. पुलिस ने इलाके में लगे सिक्‍योरिटी कैमरा के आधार पर संदिग्‍ध के तौर पर आरोपी की पहचान की और उसके घर से उसे हिरासत में लिया.