close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रेम प्रसंग में अड़ंगा बना दोहरे हत्याकांड की वजह, क्राइम शो से सीखे कानून से बचने के पैंतरे

आरोपी ने हत्या और कानून से बचने के पैंतरे टीवी चैनलों पर चलने वाले क्राइम आधारित कार्यक्रमों से सीखे थे

प्रेम प्रसंग में अड़ंगा बना दोहरे हत्याकांड की वजह, क्राइम शो से सीखे कानून से बचने के पैंतरे
आरोपी ने हत्या और कानून से बचने के पैंतरे टीवी चैनलों पर चलने वाले क्राइम आधारित कार्यक्रमों से सीखे थे (प्रतीकात्मक तस्वीर)

धमतरी: धमतरी में बीते 11 जनवरी को हुए दोहरे हत्याकांड का खुलासा छत्तीसगढ़ पुलिस ने कर दिया है. पुलिस ने हत्या के आरोप में गांव के ही एक 20 वर्षीय युवक नीरज मारकम को गिरफ्तार किया है. यहां आपको यह बताना भी महत्वपूर्ण है कि आरोपी ने हत्या और कानून से बचने के पैंतरे टीवी चैनलों पर चलने वाले क्राइम आधारित कार्यक्रमों से सीखे थे, हालांकि अब वो सलाखों के पीछे है. गौरतलब है कि 11 और 12 जनवरी की दरमियानी रात धमतरी के रत्नाबांधा बस्ती में नीरज ने दोहरे हत्याकांड को अंजाम दिया था. 20 साल के नीरज मारकाम ने धारदार हथियार से दिनेश नागरची (19 वर्ष) और उसकी मां अमृता बाई (50 वर्ष) की हत्या कर दी थी.

प्रेम प्रसंग में अड़ंगा बना दोहरे हत्याकांड की वजह
दोहरे हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि दिनेश नागरची का नीरज की बहन के साथ प्रेम संबंध था. नीरज के पिता को जब ये बात 4 जनवरी को पता चली तब उसने अपनी बेटी को फटकार लगाई थी और उसे उसकी नानी के घर छोड़ दिया था. बस उसी दिन से नीरज ने दिनेश का काम तमाम करने का फैसला कर लिया था और पूरी योजना बना ली थी. 11 जनवरी को नीरज रात में 'टंगिया' लेकर निकला और दिनेश के मकान के शौचालय की छत पर सीधा चढ़ गया फिर सीढ़ी के रास्ते उतर कर वो पहले अमृता बाई के कमरे में गया. अमृता बाई के जाग जाने पर उसने टंगिये से हमला कर दिया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

भागने में हुईं गलतियां
झगड़े का शोर सुन कर दिनेश जगा और अपने कमरे से बाहर निकला. दिनेश ने नीरज के साथ थोड़ा संघर्ष किया लेकिन मौका मिलते ही नीरज ने टंगिये के वार से दिनेश को भी मौत के घाट उतार दिया. इस बीच उस इलाके से पुलिस पेट्रोलिंग दल भी हूटर बजाते निकला. हूटर की आवाज से आरोपी घबरा गया और आनन-फानन में वहां से भाग खड़ा हुआ. भागने के समय हुई गलतियों के कारण चप्पल और खून के निशान छूट गए जो पुलिस की जांच के लिए अहम सुराग भी बने.

क्राइम शो से सीखा था कानून से बचने के पैंतरे
आरोपी ने हत्या से पहले ही कानून से बचने के लिये भी पैंतरा निकाल लिया था. उसने टंगिये का मूठ जला दिया था. फिंगर प्रिंट न छूट जाए इसके लिए उंगलियों में सेलो टेप लगा लिया था. पुलिस हैरान है कि उसने ये तमाम पैंतरे क्राइम पेट्रोल और सावधान इंडिया जैसे टीवी शो देख कर सीखा था.