'डोकलाम इलाके में हैलीपैड और चौकियों का निर्माण कर रहा है चीन'

रक्षा मंत्री ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, ‘‘2017 में बने रहे गतिरोध के समाप्त होने के बाद दोनों पक्षों के जवानों ने खुद को गतिरोध स्थल में अपनी अपनी स्थितियों से दूर फिर से तैनात किया है. दोनों पक्षों की संख्या कम हो गई है.’’ 

'डोकलाम इलाके में हैलीपैड और चौकियों का निर्माण कर रहा है चीन'
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि भारतीय और चीनी सैनिकों ने डोकलाम में गतिरोध स्थल से दूर फिर से अपनी तैनाती की है और चीन ने वहां सेना के जवानों के लिए हेलीपैड और संतरी चौकियों का निर्माण किया है. रक्षा मंत्री ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, ‘‘2017 में बने रहे गतिरोध के समाप्त होने के बाद दोनों पक्षों के जवानों ने खुद को गतिरोध स्थल में अपनी अपनी स्थितियों से दूर फिर से तैनात किया है. दोनों पक्षों की संख्या कम हो गई है.’’ 

'पीएलए ने कुछ बुनियादी ढांचे का निर्माण किया है'
उन्होंने कहा, ‘‘सर्दियों में भी ये सैनिक बने रहें, इसके लिए पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने संतरी चौकियों, खंदकों और हैलीपैड समेत कुछ बुनियादी ढांचों का निर्माण किया है.’’ रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे ने पिछले सप्ताह कहा था कि चीन के साथ भारत की सीमा पर हालात संवेदनशील है और इसके गहराने की आशंका है.

चीन के रक्षा बजट में 8.1 प्रतिशत का इजाफा
वहीं चीन ने सेना में आधुनिकीकरण अभियान को आगे बढ़ाने का प्रयास करते हुए इस साल रक्षा खर्च में 8.1 प्रतिशत की वृद्धि करके 175 अरब डॉलर किये जाने की सोमवार को घोषणा की. यह भारत के हालिया रक्षा बजट का करीब करीब चार गुना है. भारत का रक्षा बजट करीब 46 अरब डॉलर का है. चीन के रक्षा बजट में 8.1 प्रतिशत की वृद्धि पिछले साल की तुलना में अधिक है. पिछले साल चीन ने खर्च में सात प्रतिशत की वृद्धि की थी. नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) में पेश किए गए आधिकारिक दस्तावेज के अनुसार 2018 का रक्षा बजट 1110 अरब युआन (175 अरब डॉलर) होगा.

अगर वॉशिंगटन ने ट्रेड वॉर शुरू किया, तो नतीजा भुगतना होगा; चीन ने डोनाल्ड ट्रंप को चेताया

उल्लेखनीय है कि पिछले साल चीन ने रक्षा खर्च को बढ़ाकर 150.5 अरब डॉलर किया था. चीन, अमेरिका के बाद रक्षा क्षेत्र पर खर्च करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश है. पेंटागन ने 2019 में रक्षा बजट को 686 अरब डॉलर करने का अनुरोध किया है, जो कि 2017 के रक्षा खर्च से 80 अरब डॉलर अधिक है.

(इनपुट - भाषा)