छह माह बाद खुला ताजमहल, दीदार के लिए सबसे पहले पहुंचा इस देश का यात्री

कोरोना (CoronaVirus) संकट के चलते छह महीने बंद रहने के बाद ताजमहल (Taj Mahal) सोमवार से पर्यटकों के लिए खुल गया है. रीओपनिंग (Reopening) के पहले दिन ताज का दीदार करने वालों में चीनी पर्यटक (Chinese Tourist) भी शामिल रहे.

छह माह बाद खुला ताजमहल, दीदार के लिए सबसे पहले पहुंचा इस देश का यात्री
फाइल फोटो

आगरा: कोरोना (CoronaVirus) संकट के चलते छह महीने बंद रहने के बाद ताजमहल (Taj Mahal) सोमवार से पर्यटकों के लिए खुल गया है. रीओपनिंग (Reopening) के पहले दिन ताज का दीदार करने वालों में चीनी पर्यटक (Chinese Tourist) भी शामिल रहे. चूंकि चीन ने ही पूरी दुनिया को कोरोना की आग में झोंका है, इसलिए चीनी पर्यटकों को लेकर खास सावधानी बरती जा रही है.

आगरा के होटलों से चीनी यात्रियों पर नजर रखने को कहा गया है. प्रशासन को डर है कि चीनी यात्री संक्रमण की रफ्तार को बढ़ाने की वजह बन सकते हैं, इस वजह से विशेष सावधानी बरती जा रही है. पहले दिन कुल 20 विदेशी और 1,215 भारतीय पर्यटकों ने ताजमहल का दीदार किया. चीनी यात्री लियांग चिंगचेंग (Chinese national Liang Chiacheng) सबसे पहले विजिटर थे. आने वाले दिनों में पर्यटकों की संख्या में इजाफा हो सकता है. हालांकि, कोरोना के खतरे को देखते हुए सीमित संख्या में ही पर्यटकों को प्रवेश की इजाजत होगी. 

नई गाइडलाइन के अनुसार हर दिन अधिकतम 5,000 पर्यटकों को ताजमहल प्रवेश मिलेगा. इसी तरह, लाल किले में केवल 2,500 पर्यटकों को की अनुमति होगी. सोमवार को 248 पर्यटक लाल किला पहुंचे, जिनमें से पांच विदेशी थे.

रेलिंग और दीवारों से दूर रहें
एंट्री टिकट केवल ऑनलाइन ही उपलब्ध हैं. पर्यटकों को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) की वेबसाइट से ऑनलाइन टिकट बुक करनी होगा. स्मारकों पर क्यूआर कोड स्कैन करने के बाद प्रवेश दिया जा रहा है. साथ ही पार्किंग सहित सभी शुल्क का भुगतान भी डिजिटल करना अनिवार्य किया गया है. पुरातत्व विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ताजमहल और आगरा किले में मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन किया जा रहा है.

गेट पर थर्मल स्क्रीनिंग
पर्यटकों के लिए मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है. इसके अलावा, उन्हें ताजमहल की मुख्य इमारत सहित सभी दीवारों और रेलिंग से दूर रहने को कहा गया है. प्रवेश द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है. पर्यटकों को इससे गुजरना होता है और यदि किसी पर्यटक में कोरोना के हल्के लक्षण भी नजर आते हैं, तो उसे स्मारक में प्रवेश नहीं दिया जाता.    

VIDEO