वाराणसी की सबसे ज्यादा खराब है 'आबोहवा', गुरुग्राम और दिल्ली में चल रहा है कंप्टीशन

CPCB के मुताबिक इस लिस्ट में सबसे ऊपर वाराणसी  वाराणसी (491) है, उसके बाद गुरुग्राम (480), दिल्ली (468), लखनऊ (462) और कानपुर (461) की स्थिति भी गंभीर बनी हुई है. 

वाराणसी की सबसे ज्यादा खराब है 'आबोहवा', गुरुग्राम और दिल्ली में चल रहा है कंप्टीशन
शनिवार को दिल्ली में छाई धुंध. (फोटो साभार - ANI)

नई दिल्ली : एयर क्वॉलिटी इंडेक्स में उत्तर भारत के कई शहरों की हालत खराब है. CPCB के मुताबिक इस लिस्ट में सबसे ऊपर वाराणसी (491) है, उसके बाद गुरुग्राम (480), दिल्ली (468), लखनऊ (462) और कानपुर (461) की स्थिति भी गंभीर बनी हुई है. इस बीच दिल्ली में शनिवार सुबह भी धुंध छाई रही. वहीं राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के ऑड-ईवन योजना के तहत कुछ वाहनों को दी जाने वाली रियायतें हटाने के आदेश के बाद दिल्ली सरकार ने सोमवार से लागू की जाने वाली योजना वापस ले ली. 

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि एनजीटी के निर्देश को देखते हुए सरकार ने यह फैसला किया. एनजीटी ने सरकार को ऑड-ईवन योजना के तहत दी जाने वाली सभी रियायतें वापस लेने का आदेश दिया था जिनमें दोपहिया वाहनों एवं महिलाओं द्वारा चलाए जाने वाले वाहन जिनमें वे अकेली हों, को मिलने वाली छूट शामिल थी.

गहलोत ने कहा कि इसे देखते हुए सरकार ‘‘महिलाओं की सुरक्षा के साथ समझौता’’ करने को तैयार नहीं है क्योंकि एनजीटी ने आदेश दिया था कि एंबुलेंस एवं दमकल वाहनों जैसे आपात वाहनों को छोड़कर किसी को भी छूट नहीं दी जानी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘हम एनजीटी के फैसले का सम्मान करते हैं. एनजीटी की दो शर्तें कि दोपहिया वाहनों एवं महिलाओं को छूट नहीं दी जा सकती, से ऑड-ईवन योजना लागू करना मुश्किल हो गया क्योंकि हमारे पास पर्याप्त बसें नहीं हैं.’’ 

यह भी पढ़ें : ऐसे बचें वायु प्रदूषण से, जानें 8 सरल तरीके!

मंत्री ने कहा, ‘‘साथ ही हम महिलाओं की सुरक्षा से समझौता नहीं कर सकते. हम जोखिम नहीं ले सकते. पीमए(पार्टिकुलेट मैटर) 2.5 और पीएम10 स्तर भी नीचे आ गए हैं. इसलिए इस समय हम इसे वापस ले रहे हैं. हम सोमवार को एनजीटी में एक समीक्षा याचिका दायर करेंगे.’’

 smog in Uttar Pradesh's Jalaun, in the early morning hours of Saturday
उत्तर प्रदेश के जालौन में शनिवार सुबह के दौरान छाई धुंध की चादर. (फोटो साभार - ANI)

बता दें इस हफ्ते की शुरूआत में दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में धुंध की चादर बनने तथा वायु गुणवत्ता सूचकांक के खतरनाक स्तर पर पहुंचने के कारण 13-17 नवंबर के बीच ऑड-ईवन योजना लागू करने की घोषणा की थी. रविवार तक के लिए स्कूल भी बंद कर दिए गए.