कांग्रेस के उपवास में हिस्सा लेने पहुंचे राहुल गांधी, मंच से उतारे गए जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में राजघाट पर आयोजित उपवास कार्यक्रम में पार्टी के नेता जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार हिस्सा लेने पहुंचे थे, लेकिन उन्हें मंच से उतार दिया गया.

कांग्रेस के उपवास में हिस्सा लेने पहुंचे राहुल गांधी, मंच से उतारे गए जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार
राजघाट पर कांग्रेस के उपवास कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे जगदीश टाइटलर. तस्वीर साभार: ANI

नई दिल्ली: कांग्रेस की ओर से आयोजित देशव्यापी उपवास विवादों में फंस गया है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में राजघाट पर आयोजित उपवास कार्यक्रम में पार्टी के नेता जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार हिस्सा लेने पहुंचे थे, लेकिन उन्हें मंच से उतार दिया गया. बताया जा रहा है कि सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर 1984 सिख दंगा मामले में आरोपी हैं, ऐसे में उनके राहुल गांधी के बगल में बैठने से उनकी छवि को नुकसान पहुंच सकता था. इसी बात को ध्यान में रखते हुए उन्हें मंच से उतरने के लिए कह दिया गया. हालांकि पार्टी के नेताओं ने इस आरोप को खारिज किया है. इन विवादों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राजघाट पर पहुंचकर कांग्रेस के उपवास कार्यक्रम में हिस्सा लिया. राहुल गांधी ने बापू की समाधि स्थल पर जाकर सिर झुकाया.

पार्टी के वरिष्ठ नेता अरविंदर सिंह लवली ने कहा कि यह उपवास पार्टी की ओर से आयोजित किया गया है, इसलिए इसमें नेता आ रहे हैं और अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर जा रहे हैं. उन्होंने सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर को मंच से उतारे जाने की बात को खारिज कर दिया. 

वहीं जगदीश टाइटलर ने भी आरोपों को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि उनके ऊपर ऐसे कोई आरोप नहीं हैं, जिसके चलते उन्हें पार्टी के मंच से उतारा जाए.

दलित हिंसा के विरोध में कांग्रेस का राष्ट्रव्यापी उपवास
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधिस्थल राजघाट पर उपवास का आयोजन किया गया. इसके अलावा देशभर में कांग्रेस पार्टी के नेता पार्टी कार्यालय में उपवास पर हैं. 

ये भी पढ़ें: दलितों के खिलाफ अत्याचार के विरोध में कांग्रेस का देशभर में उपवास, राजघाट पर बैठेंगे राहुल गांधी

कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि हिंसा पर लगाम लगाने और आपसी सद्भाव, भाईचारे, सामाजिक समरसता एवं शांति कायम करने की मांग को लेकर सभी सम्भाग मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ता सुबह 11 बजे से शाम पांच बजे तक उपवास रख रहे हैं.

बीजेपी के आने से सामाजिक समरसता को हुआ आघात: पायलट
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने एक बयान में कहा कि जब से बीजेपी सरकार बनी है तब से देश एवं प्रदेश में सामाजिक समरसता एवं सद्भावना को आघात पहुंचा है. उन्होंने कहा कि विगत चार सालों में असामाजिक तत्वों ने शांति व्यवस्था को बिगाड़ने एवं आपस में फूट डालकर लोगों को लड़वाने का काम किया है और सरकार मूकदर्शक बनकर बैठी रही है.

ये भी पढ़ें: बीजेपी का पलटवार, '2019 में लोकसभा चुनाव हारेंगे राहुल और सोनिया'

उन्होंने कहा कि आज देश में आपसी भाईचारे को पुनर्स्थापित एवं आमजन के बीच खोये विश्वास की पुन: बहाली की बड़ी आवश्यकता है. इसलिए कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लिया है कि बीजेपी सरकार की वैमनस्य बढ़ाने वाली नीति के विरोध स्वरूप देश में भाईचारा कायम करने के लिए कांग्रेसजन सोमवार को उपवास रखकर अहिंसा एवं शांति कायम करने के लिए जनता से अपील करेंगे.

बीजेपी के 'झूठ' उजागर करने के लिए रखा जाएगा उपवास: गोहिल
बिहार प्रदेश कांग्रेस के नवनियुक्त प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल ने कहा कि अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति (एससी..एसटी) कानून को लेकर सहित बीजेपी के अन्य 'झूठ' उजागर करने के लिए उनकी पार्टी द्वारा कल जिलास्तर पर धरना एवं उपवास किया जाएगा. गोहिल बिहार प्रदेश कांग्रेस प्रभारी नियुक्त किए जाने के बाद रविवार को पहली बार पटना स्थित पार्टी के प्रदेश मुख्यालय सदाकत आश्रम पहुंचे.

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने चार साल के कार्यकाल में जनता से किया एक भी वादा पूरा नहीं किया और देश की जनता उनके झूठे वादे को समझ चुकी है. गोहिल ने कहा कि कांग्रेस विचारधारा एवं सिद्धान्त पर चलती है तथा जनता से झूठे वादे नहीं करती.

ये भी पढ़ें: अमित शाह के बयान पर राहुल का पलटवार, उनकी बात को सीरियसली नहीं लेते

बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि दिल्ली में हाल में सम्पन्न कांग्रेस महाअधिवेशन में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने समाज के सबसे निचले पायदान के लोगों के बीच खुशहाली लाने का आह्वान कांग्रेसजनों से किया था. साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं एवं नेताओं के बीच कोई दीवार नहीं होनी चाहिये तथा जनता के साथ कांग्रेस कार्यकर्ता हर समय पर संवाद बनाये रखें.

उन्होंने कहा कि शक्तिसिंह गोहिल इसी कार्य को अंजाम देने के लिये गांधी जी की जन्मभूमि गुजरात से उनके कर्मभूमि बिहार आये हैं. कादरी ने कहा कि शक्तिसिंह गोहिल जैसे जमीनी नेता के बिहार प्रभारी बनने से बिहार में कांग्रेस पार्टी एक सशक्त संगठन के रूप में उभरेगी.