कर्नाटक: गौ हत्या विरोधी बिल पर बौखलाई कांग्रेस, सिद्धारमैया बोले- RSS ने किया है तैयार

कर्नाटक विधान सभा में  विपक्ष के नेता सिद्धारमैया (Siddaramaiah) ने कहा कि सरकार आरएसएस द्वारा तैयार किए गए गौ हत्या विरोधी बिल को पेश करने की तैयारी में है.

कर्नाटक: गौ हत्या विरोधी बिल पर बौखलाई कांग्रेस, सिद्धारमैया बोले- RSS ने किया है तैयार
विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने कहा कि कांग्रेस बिल का विरोध करेगी.

बेंगलुरु: कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी (Congress) गौ हत्या विरोधी बिल (Anti Cow Slaughter Bill) का विरोध करेगी. पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता सिद्धारमैया (Siddaramaiah) ने कहा कि इस बिल के आने से कई लोग बेरोजगार हो जाएंगे. बता दें कि कर्नाटक के पशुपालन मंत्री प्रभु चौहान ने कहा था कि हम गौ हत्या विरोधी बिल कर्नाटक में भी लागू करने की तैयारी कर रहे हैं. इसके बाद राज्य सरकार गौ हत्या, बिक्री और गोमांस की खपत पर प्रतिबंध लगाएगी.

सिद्धारमैया बोले- RSS ने किया है तैयार

कर्नाटक विधान सभा में विपक्ष के नेता सिद्धारमैया (Siddaramaiah) ने कहा, 'कांग्रेस राज्य में गौ हत्या विरोधी बिल का विरोध करेगी, क्योंकि इस बिल के आने के बाद सभी लोग, जो गोमांस पर निर्भर हैं वे बेरोजगार हो जाएंगे.' उन्होंने कहा, 'सरकार आरएसएस (RSS) द्वारा तैयार किए गए बिल को पेश करने की तैयारी में है.'

लाइव टीवी

उत्तर प्रदेश में दस साल की सजा

बता दें कि इससे पहले कई राज्यों में गौ हत्या विरोधी बिल पारित हो चुका है. उत्तर प्रदेश में गौ हत्या पर तीन साल से 10 साल की सजा और जुर्माना तीन लाख से पांच लाख रुपये तक का प्रावधान है. अगर एक बार दोष सिद्ध होने के बाद कोई दोबारा पुन: अपराध करते पाया गया तो उस व्यक्ति पर दोहरा दंड लगाया जाएगा.

इन राज्यों में है प्रतिबंध

रिपोर्टस के अनुसार उत्तर प्रदेश के अलावा जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, दिल्ली और चंडीगढ़ में गौ हत्या पर प्रतिबंध है. 10 राज्य ऐसे भी हैं, जहां गौ-हत्या पर प्रतिबंध नहीं है. इसमें केरल, पश्चिम बंगाल,असम, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मिजोरम, नागलैंड, त्रिपुरा, सिक्किम और केंद्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप शामिल है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.