close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मुरली देवड़ा का निधन, PM मोदी ने जताया शोक

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली देवड़ा का आज यहां लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 77 वर्ष के थे । उनके परिवार में उनकी पत्नी तथा दो बेटे हैं जिनमें पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा भी शामिल हैं । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक जताया है।

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मुरली देवड़ा का निधन, PM मोदी ने जताया शोक

मुंबई : वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली देवड़ा का सोमवार को यहां लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 77 वर्ष के थे । उनके परिवार में उनकी पत्नी तथा दो बेटे हैं जिनमें पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा भी शामिल हैं । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक जताया है।

मुरली भाई के रूप में जाने जाने वाले मुरली देवड़ा ने सुबह तीन बजकर 25 मिनट पर अंतिम सांस ली। वह बीमार चल रहे थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें दो दिन पहले ही अस्पताल से घर पर लाया गया था। उनके परिवार के सूत्रों ने यह जानकारी दी। गांधी परिवार के वफादार और महाराष्ट्र में कांग्रेस के दिग्गज नेता 77 वर्षीय मुरली देवड़ा का सोमवार को यहां लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। उनका चंदनवाड़ी श्मशान घाट में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया।

पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि मित्रों के बीच मुरली भाई के रूप में लोकप्रिय मुरली देवड़ा ने सुबह करीब तीन बजकर 25 मिनट पर अंतिम सांस ली। देवड़ा बीमार चल रहे थे और इसके चलते उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां से वह दो दिन पहले ही घर लौटे थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी तथा दो बेटे हैं जिनमें पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा भी हैं। मिलिंद भी पूर्व की मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री रह चुके हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी देवड़ा को श्रद्धांजलि देने के लिए मुंबई पहुंचे। उनके साथ प्रियंका गांधी और उनके पति रॉबर्ट वाड्रा भी थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देवड़ा के निधन पर शोक जताया। उन्होंने ट्वीट किया कि अभी कल ही मैंने श्री मुरली देवड़ा के परिवार से बात की थी और उनकी सेहत के बारे में पूछा था। आज यह दुर्भाग्यपूर्ण खबर सुनकर बहुत दुख हुआ। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपने शोक संदेश में देवड़ा को ‘बहुत प्यारा दोस्त’ करार दिया। देवड़ा की पत्नी को भेजे शोक संदेश में सिंह ने कहा कि देवड़ा ने एक सांसद के तौर पर और कई वर्षों तक मेरे एक कैबिनेट सहयोगी के तौर पर बेहतरीन छाप छोड़ी। उनका असामयिक निधन देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, मोतीलाल वोहरा और आनंद शर्मा भर कांग्रेस के मुंबई कार्यालय पहुंचे जहां देवड़ा का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था। दूसरे दलों के नेताओं ने भी देवड़ा को श्रद्धांजलि दी। देवड़ा के दूसरी पार्टियों में कई मित्र रहे हैं। महाराष्ट्र के संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश मेहता, शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े, मनसे प्रमुख राज ठाकरे और केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने देवड़ा को श्रद्धांजलि दी। बाद में देवड़ा के पार्थिव शरीर को दक्षिण मुंबई स्थित चंदनवाड़ी श्मशान घाट ले जाया गया जहां उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। उनके पुत्रों मिलिंद और मुकुल ने मुखाग्नि दी।

इस मौके पर सोनिया, राहुल, प्रियंका, वाड्रा, शर्मा, अहमद पटेल, राकांपा नेता प्रफुल्ल पटेल, उद्योगपति मुकेश अम्बानी एवं अनिल अम्बानी, पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण, गोयल और मेहता उपस्थित थे। सोनिया बाद में देवड़ा के दक्षिण मुंबई स्थित आवास पहुंची जहां उन्होंने उनकी पत्नी हेमा से मुलाकात की और उनको ढांढस बंधाया। देवड़ा के निधन पर केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू, कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, राकांपा नेता छगन भुजबल तथा कई दूसरे नेताओं ने दुख जताया।

संप्रग शासनकाल के दौरान पेट्रोलियम और कारपोरेट मामलों के मंत्रालयों की कमान संभालने वाले देवड़ा इस समय राज्यसभा सदस्य के रूप में अपना तीसरा कार्यकाल पूरा कर रहे थे। देवड़ा सर्वाधिक लंबे समय तक देश के पेट्रोलियम मंत्री रहे और उन्होंने अपने चार दशकों के राजनीतिक सफर में पार्टी और सरकार में कई महत्वपूर्ण पदों को संभाला। वह दक्षिण मुंबई से चार बार लोकसभा के लिए चुने गए और वह 22 सालों तक मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। गांधी परिवार के वफादार और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के विश्वासपात्र रहे देवड़ा पार्टी के लिए धन संग्रहण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे जिनके देश के जाने माने उद्योपगतियों से निजी संबंध थे।

अपने दशकों लंबे राजनीतिक कैरियर में कई महत्वपूर्ण विभागों की कमान संभालने वाले देवड़ा ने पहली बार 1975 में मुंबई में नगर निकाय का चुनाव लड़ा था। अर्थशास्त्र में स्नातक डिग्रीधारी देवड़ा 1977 से 78 के बीच मुंबई के मेयर रहे और दक्षिण मुंबई से चार बार लोकसभा के लिए चुने गए । इसी सीट का प्रतिनिधित्व उनके बेटे मिलिंद ने किया जो पूर्व सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री हैं। देवड़ा इस समय राज्यसभा के सदस्य के रूप में अपना तीसरा कार्यकाल पूरा कर रहे थे । कांग्रेस के वरिष्ठ नेता देवड़ा ने संप्रग 1 सरकार में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री का पदभार संभाला था। वह 22 सालों तक मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे। 70 की उम्र को पार करने से कुछ ही समय पहले उन्हें 2006 में केंद्रीय कैबिनेट में शामिल किया गया था। उन्होंने म्यामांर, अल्जीरिया और मिस्र के साथ तेल डिप्लोमेसी को आगे बढ़ाया और सूडान, चाड़, इथियोपिया तथा कोमोरोस के मंत्रियों के साथ वार्ताएं कीं । देवड़ा ने नवंबर 2007 में पहली भारत-अफ्रीका हाइड्रोकार्बन कांफ्रेंस और प्रदर्शनी की मेजबानी भी की थी। जुलाई 2011 में देवड़ा संचार और सूचना तकनीक राज्य मंत्री बनाए गए।