विधायक दल बदल के चलते तेलंगाना में कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

कांग्रेस की ओर से जारी बयान में कहा गया कि उस्मानिया विश्वविद्यालय के छात्रों के एक समूह ने विरोध प्रदर्शन किया और पाला बदलने वाले विधायकों का प्रतीकात्मक रूप से अंतिम संस्कार किया.

विधायक दल बदल के चलते तेलंगाना में कांग्रेस ने किया प्रदर्शन
फाइल फोटो

हैदराबाद: तेलंगाना में कांग्रेस के 12 विधायकों के टीआरएस में शामिल होने के एक दिन बाद शुक्रवार को कांग्रेस के कार्यकर्ता राज्य के विभिन्न हिस्सों में इस दल-बदल के विरोध में सड़कों पर उतर आए.

हैदराबाद से मिली खबरों के अनुसार वारांगल,करीमनगर तथा अन्य स्थानों पर विरोध प्रदर्शन हुए और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर दल-बदल को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ जमकर भड़ास निकाली गई.

कांग्रेस की ओर से जारी बयान में कहा गया कि उस्मानिया विश्वविद्यालय के छात्रों के एक समूह ने विरोध प्रदर्शन किया और पाला बदलने वाले विधायकों का प्रतीकात्मक रूप से अंतिम संस्कार किया.

तेदेपा पोलित ब्यूरो के सदस्य आर चंद्रशेखर रेड्डी ने संवाददाताओं से कहा कि देश भर में और संसद में इस प्रकार के विलय के मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए. 

गौरतलब है कि तेलंगाना में कांग्रेस को गुरुवार को उस समय बड़ा झटका लगा, जब उसके 18 में से 12 विधायकों ने अपने समूह का सत्तारूढ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) में विलय करने की मांग की. इसके कुछ ही घंटों बाद विधानसभा अध्यक्ष ने इन विधायकों की मांग मानते हुए टीआरएस में उनके विलय को मान्यता दे दी.

तेजी से हुए राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच स्पीकर पी श्रीनिवास रेड्डी ने 12 विधायकों के अनुरोध को मान लिया. उन्होंने इस तथ्य पर विचार करते हुए फैसला किया कि यह 12 विधायक कांग्रेस विधायक दल में शामिल कुल 18 विधायकों का दो-तिहाई हैं और दल-बदल निरोधक कानून के तहत विलय के लिए दो-तिहाई संख्याबल की जरूरत होती है.

गुरुवार की रात विधानसभा से जारी एक बुलेटिन में कहा गया कि 12 विधायकों को सदन में टीआरएस विधायक दल के सदस्यों के साथ सीटें आवंटित की गई हैं.

विलय के संबंध में विधानसभा अध्यक्ष का फैसला पलटे जाने तक सदन में मुख्य विपक्षी पार्टी का कांग्रेस का दर्जा छिन जाएगा, क्योंकि अब उसके पास सिर्फ छह विधायक रह गए हैं.