BREAKING NEWS

केंद्र में बनी हमारी सरकार तो खत्‍म कर देंगे तीन तलाक कानून : कांग्रेस

कांग्रेस अल्‍पसंख्‍यक के राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने दिया बड़ा बयान.

केंद्र में बनी हमारी सरकार तो खत्‍म कर देंगे तीन तलाक कानून : कांग्रेस
कांग्रेस अल्‍पसंख्‍यक के राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने दिया बड़ा बयान. फोटो ANI

नई दिल्‍ली : तीन तलाक कानून को लेकर गुरुवार को कांग्रेस की ओर से बड़ा बयान सामने आया है. कांग्रेस अल्‍पसंख्‍यक के राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा है कि जब हमारी सरकार केंद्र में बनेगी तो हम तीन तलाक कानून को खत्म कर देंगे. उन्‍होंने यह भी कहा कि ये कानून मुस्लिम पुरुषों को जेल में भेजने की एक साजिश है. इस सम्‍मेलन में कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी समेत अन्‍य कार्यकर्ता भी मौजूद थे. वहीं, कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा है कि अल्पसंख्यक कांग्रेस की ताकत है.

बता दें कि बीजेपी लगातार यह आरोप लगाती आ रही है कि कांग्रेस हमेशा से ही तीन तलाक अध्‍यादेश के खिलाफ रही है. मुस्लिम समुदाय में तीन तलाक प्रथा को खत्‍म करने के लिए केंद्र सरकार की ओर लाए गए तीन तलाक विधेयक को 31 दिसंबर को राज्‍यसभा में पेश किया जाना था. इस पर विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया था.

इस पर 2 जनवरी, 2019 को फिर इसे राज्‍यसभा में पेश करने के लिए लाया गया. लेकिन इस पर फिर हंगामे हुआ और यह अटका रह गया. सरकार की ओर से यह विधेयक लोकसभा में पेश किया जा चुका है, जहां इसे भारी हंगामे के बाद पास कर दिया गया था. विधेयक के पक्ष में 245 जबकि विपक्ष में 11 वोट पड़े थे. 

कांग्रेस की कमलनाथ सरकार पर निशाना
कांग्रेस अल्पसंख्यक सम्‍मेलन में मध्‍य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर सवाल उठाए गए. कांग्रेस नेता रोशन बेग के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री आरिफ खान ने कमलनाथ सरकार से पूछा कि बीजेपी की सरकार में मुसलमानों पर एनएसए लगे तो समझ आता है, लेकिन एमपी में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार एनएसए लगा रही है. हम इसकी मुखालफत करते हैं. कमलनाथ सरकार ने गो हत्या के आरोप में तीन मुस्लिमों के खिलाफ एनएसए के तहत कार्रवाई की है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.