close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में इस्तीफे पर अड़े राहुल, बोले- 'अध्यक्ष पद पर बने रहना जरूरी नहीं': सूत्र

24, अकबर रोड पर पार्टी कार्यालय के बाहर इंतजार कर रहे पत्रकारों को संदेश देते हुए सुरजेवाला ने स्पष्ट किया कि राहुल के इस्तीफे की पेशकश की रिपोर्ट गलत है.

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में इस्तीफे पर अड़े राहुल, बोले- 'अध्यक्ष पद पर बने रहना जरूरी नहीं': सूत्र
फोटो साभार : ANI

नई दिल्ली : कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक खत्म हो गई है. सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक, बैठक में राहुल गांधी अपने इस्तीफे पर अड़े रहे. उन्होंने कहा, मैं पार्टी के अध्यक्ष पद पर बना रहूं, यह जरूरी नहीं हैं. सूत्रों ने यह भी बताया कि राहुल गांधी ने बैठक में कहा कि पार्टी की लड़ाई के लिए उनका अध्यक्ष पद पर बने रहने की कोई आवश्यकता नहीं है. सूत्रों के हवाले से यह भी खबर है कि बैठक में सर्वसम्मति से पार्टी के पुनर्गठन के लिए राहुल गांधी को सर्वेसर्वा बनाने का प्रस्ताव भी पेश किया गया.

सुरजेवाला ने कही ये बात
बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के पूरे मीडिया में इस्तीफे की खबर फैलने के कुछ ही मिनटों बाद पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने शनिवार को स्पष्ट किया कि इस मामले में कोई सच्चाई नहीं है और यह गलत खबर है. 24, अकबर रोड पर पार्टी कार्यालय के बाहर इंतजार कर रहे पत्रकारों को संदेश देते हुए सुरजेवाला ने स्पष्ट किया कि राहुल के इस्तीफे की पेशकश की रिपोर्ट गलत है.

 

राहुल गांधी ने ली है पार्टी की हार की जिम्मेदारी
इससे पहले की रिपोर्टों के अनुसार, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी की शीर्ष इकाई की बैठक शुरू होने के तुरंत बाद 2019 आम चुनाव में पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की थी. कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खगड़े, सोनिय गांधी, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, प्रियंका गांधी, मीरा कुमार, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, दिल्ली स्थित कार्यालय में उपस्थित हैं. कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में राहुल गांधी का समर्थन करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि चुनावों में हार और जीत तो लगी ही रहती है. ऐसे में इस्तीफा देना कोई सही फैसला नहीं है.

गांधी परिवार से बाहर किसी नेता को बनाया जाएगा अध्यक्ष
सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक, इस बैठक में गांधी परिवार से बाहर किसी अन्य नेता को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने पर भी विचार किया जाएगा. सूत्रों का कहना है कि लोकसभा चुनावों में शिकस्त मिलने के बाद पार्टी परिवारवाद से बाहर निकलने पर विचार कर रही है. 

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अशोक गहलोक का नाम सबसे आगे
सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक, अगर बैठक में राहुल गांधी का इस्तीफा स्वीकर हो जाता है तो मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत, तरुण गोगोई, सुशील कुमार शिंदे में से किसी को अध्यक्ष बनाया जा सकता है. सूत्रों का यह भी कहना है कि पार्टी अध्यक्ष की दौड़ में सबसे आगे नाम अशोक गहलोत का चल रहा है, क्योंकि वह सोनिया, प्रियंका और राहुल तीनों के ही सबसे ज्यादा करीबी हैं.

17 राज्यों में शून्य पर सिमटी कांग्रेस
लोकसभा चुनावों में मिली करारी शिकस्त के तुरंत बाद राहुल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की घोषणा कर दी थी कि हार की समीक्षा के लिए बैठक होगी. चुनाव नतीजे राहुल गांधी और कांग्रेस के लिए हैरान करने वाले हैं. मोदी की आंधी ऐसी चली कि समूचे विपक्ष का सुपड़ा साफ हो गया. राहुल की कांग्रेस 17 राज्यों में शून्य पर सिमट गई. 

बैठक का एजेंडा नहीं है तय
हालांकि, बैठक को लेकर कोई एजेंडा तय नहीं किया गया है. लेकिन पार्टी के सूत्रों का कहना है कि राहुल का इस्तीफा मंजूर नहीं किया जाएगा और पार्टी उनके नेतृत्व में ही काम करेगी. कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में पार्टी की करारी हार के कारणों की समीक्षा भी की जाएगी, जहां पार्टी ने 5 महीने पहले ही सरकार बनाई है.

 

राहुल गांधी के इस्तीफे को बताया महज अफवाह
कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू होने से पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता मीम अफजल ने कहा कि राहुल गांधी के इस्तीफे की खबर महज एक अफवाह है. 

बैठक में गलतियों की समीक्षा
मीम अफजल ने कहा कि लोकसभा चुनावों के बाद आज होने वाली कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बेहद ही अहम है. इस बैठक में इस बात की समीक्षा होगी कि पार्टी से क्या कमी रह गई है. उन्होंने कहा कि अगर आज होने वाली इस बैठक में कोई राजनेता इस्तीफे की पेशकश करता है तो यह उनका आपसी विवेक है.