AMU News: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की मैगजीन में पीएम मोदी की तस्वीर पर विवाद, छात्रों ने VC से पूछे सवाल
topStorieshindi

AMU News: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की मैगजीन में पीएम मोदी की तस्वीर पर विवाद, छात्रों ने VC से पूछे सवाल

Aligarh Muslim University: पीएम मोदी की ये तस्वीरें 100 वर्ष से भी ज्यादा समय से एएमयू की उपलब्धियों को लेकर प्रकाशित होने वाली मैगजीन में छपी हैं.  मैगजीन में 12 जगहों पर प्रधानमंत्री की फोटो छपी हुई है.

AMU News: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की मैगजीन में पीएम मोदी की तस्वीर पर विवाद, छात्रों ने VC से पूछे सवाल

UP News: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो पर एएमयू छात्रों ने आपत्ति दर्ज कराई है. पीएम मोदी की यह तस्वीरें 100 वर्ष से भी ज्यादा समय से एएमयू की उपलब्धियों को लेकर प्रकाशित होने वाली मैगजीन में छपी हैं. मैगजीन में 12 जगहों पर प्रधानमंत्री की फोटो छपी हुई है. वहीं छात्रों का आरोप है कि किसी पार्टी को खुश करने के लिए वाइस चांसलर ने यह मैगजीन छपवाई है और इसमें झूठ परोसा गया है.

गौरतलब है कि अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में इससे पहले पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर विवाद होता रहा है. पिछले साल सितंबर में अयोध्या के संत समाज ने एएमयू से जिन्ना की तस्वीर हटाए जाने की मांग की है. अयोध्या के संत समाज ने एएमयू से जिन्ना की तस्वीर हटाए जाने की मांग की है. जगतगुरु राम दिनेश चार्य का कहना है कि जब देश का बंटवारा हो गया, तो जिन्ना की तस्वीर यहां क्यों लगी हैं?

इससे पहले अलीगढ़ के बीजेपी सांसद सतीश कुमार गौतम ने भी यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर को लेकर विरोध दर्ज कराया था. 2018 में उन्होंने यूनिवर्सिटी के कुलपति को लेटर लिख पूछा था कि क्या एएमयू में पाकिस्तान के संस्थापक जिन्ना की तस्वीर लगी है? अगर लगी है तो किस डिपार्टमेंट में और क्यों लगी हुई है? 

1875 में हुई थी यूनिवर्सिटी की स्थापना
बता दें उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में स्थित एएमयू एक सार्वजनिक केंद्रीय यूनिवर्सिटी है. इस यूनिवर्सिटी की स्थापना सर सैयद अहमद खान द्वारा 1875 में मुहम्मडन एंग्लो-ओरिएंटल कॉलेज के रूप की गई थी. 

मुहम्मदन एंग्लो-ओरिएंटल कॉलेज 1920 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी अधिनियम के बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी बन गया। एएमयू मलप्पुरम कैंपस (केरल), एएमयू मुर्शिदाबाद केंद्र (पश्चिम बंगाल) और किशनगंज केंद्र (बिहार) में इसके तीन ऑफ-कैंपस केंद्र हैं. 

विश्वविद्यालय शिक्षा की पारंपरिक और आधुनिक शाखाओं में 300 से अधिक पाठ्यक्रम प्रदान करता है.

(ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर)

Trending news