Coronavirus: 5वीं की स्टूडेंट ने CJI को खत लिखकर कोरोना के खिलाफ उठाए गए कदमों को सराहा

केरल के त्रिशूर जिले की 10 वर्षीय लिडविना जोसेफ ने पत्र में लिखा, मुझे खुशी है और गर्व महसूस हो रहा है कि आपकी माननीय अदालत ने ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए आदेश दिया है और कई लोगों की जान बचाई है.

Coronavirus: 5वीं की स्टूडेंट ने CJI को खत लिखकर कोरोना के खिलाफ उठाए गए कदमों को सराहा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: केरल की पांचवीं कक्षा की एक छात्रा ने भारत के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन. वी. रमना को एक पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने सुप्रीम कोर्ट को कोविड-19 की स्थिति से निपटने के लिए पारित आदेशों के लिए धन्यवाद दिया. बच्ची ने न्यायमूर्ति रमना को पत्र लिखकर कहा है कि माननीय न्यायालय ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में आम लोगों की पीड़ा और मृत्यु पर प्रभावी ढंग से हस्तक्षेप किया है और मुझे खुशी एवं गर्व महसूस हो रहा है कि आपकी माननीय अदालत ने ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए आदेश दिया है. 

त्रिशूर की बच्ची जोसेफ ने लिखा पत्र

केरल के त्रिशूर जिले की 10 वर्षीय लिडविना जोसेफ ने पत्र में लिखा, मुझे खुशी है और गर्व महसूस हो रहा है कि आपकी माननीय अदालत ने ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए आदेश दिया है और कई लोगों की जान बचाई है. माननीय न्यायालय ने हमारे देश में विशेष रूप से दिल्ली में कोविड-19 और मृत्यु दर को कम करने के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं. मैं इसके लिए आपका धन्यवाद करती हूं. अब मुझे बहुत गर्व और खुशी हो रही है.

कोरोना वायरस से हो रही मौतों से चिंतित

जोसेफ ने अपने हाथ से लिखे पत्र में कहा कि वह मैं दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में कोरोनावायरस के कारण होने वाली मौतों को लेकर बहुत चिंतित थी. शीर्ष अदालत को अभूतपूर्व स्वास्थ्य संकट में लोगों की पीड़ा को कम करने के लिए महत्वपूर्ण हस्तक्षेप करते हुए देखकर मुझे खुशी हुई है. 

दो चित्र भी भेजे

बच्ची ने एक रंग बिरंगा चित्र भी संलग्न किया, जिसमें एक न्यायाधीश को कोरोनोवायरस को गैवेल (लकड़ी का हथौड़ा) के साथ तोड़ते हुए दिखाया गया है. जोसेफ ने महात्मा गांधी का एक चित्र भी बनाया, जो जज के पीछे की दीवार पर लटका हुआ देखा जा सकता है. इसके साथ ही एक तिरंगा भी बनाया गया है.

प्रधान न्यायाधीश ने बच्ची को लिखा जवाबी पत्र

पत्र से प्रभावित होकर प्रधान न्यायाधीश रमना ने जोसेफ को जवाब देते हुए कहा, मुझे आपका सुंदर पत्र मिला, साथ ही काम पर जज के दिल को छू लेने वाला चित्र भी मिला है. जिस तरह से आपने देश में होने वाली घटनाओं पर नजर रखी और महामारी के मद्देनजर लोगों की भलाई के लिए आपने जो चिंता दिखाई, उससे मैं वास्तव में प्रभावित हूं.

संविधान की हस्ताक्षरित प्रति भेजी

प्रधान न्यायाधीश रमना ने आगे लिखा, मुझे विश्वास है कि आप बड़ी होकर एक सतर्क, जागरूक और जिम्मेदार नागरिक के रूप में विकसित होंगी, जो राष्ट्र निर्माण में बहुत योगदान देगा. सीजेआई एन. वी. रमना ने बच्ची को संविधान की एक हस्ताक्षरित प्रति भी भेजी.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.