कोरोना वायरस ने Gold पर भी डाला असर, कीमत में हो सकती है इतनी बढ़ोतरी

कोरोना वायरस (Covid-19) के चलते आने वाले दिनों में सोने का भाव 58 हजार रुपए तक जा सकता है. फिलहाल सोने के भाव इसी हफ्ते 16 अप्रैल को अपने उच्चतम शिखर यानी 47 हजार रुपए के पार चला गया था.

कोरोना वायरस ने Gold पर भी डाला असर, कीमत में हो सकती है इतनी बढ़ोतरी

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Covid-19) के चलते आने वाले दिनों में सोने का भाव 58 हजार रुपए तक जा सकता है. फिलहाल सोने के भाव इसी हफ्ते 16 अप्रैल को अपने उच्चतम शिखर यानी 47 हजार रुपए के पार चला गया था. सोने का व्यापार करने वाले विशेषज्ञों की मानें तो अगले 15 दिनों में कीमत एक नए स्तर पर जा सकती है.

पिछले 15 दिनों में लगातार हो रही बढ़ोतरी
देशव्यापी लॉकडाउन के कारण बाजार बंद है, लेकिन सोना लगातार नए शिखर को छूता जा रहा है. 16 अप्रैल को मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज यानी एमसीएक्स (MCX) पर सोने के जून अनुबंध में पिछले सत्र से 318 रुपए यानी 0.68 फीसदी की तेजी के साथ 47028 रुपए प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था. जबकि इससे पहले सोने का भाव 47099 रुपए प्रति 10 ग्राम तक उछला जो कि अब तक का सबसे उंचा स्तर है.

ये भी पढ़ें- देश में कोरोना के 14378 मरीज, 23 राज्यों के जमात की वजह से केस बढ़े : स्वास्थ्य मंत्रालय

अंतरराष्ट्रीय बाजार में दिखी तेजी
अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने का स्पॉट भाव $1708 चल रहा है. वहीं 18 अप्रैल को मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर फिलहाल 10 ग्राम सोने की कीमत 45,735 रुपए चल रही है. कमोडिटी  एक्सपर्ट के मुताबिक अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने का भाव $1840 से $2200 प्रति आउंस के स्तर को छू सकता है. वहीं घरेलू बाजार में यह 52 हजार रुपए से लेकर के 58 हजार प्रति 10 ग्राम के स्तर पर जा सकता है.

आरबीआई उठा सकता है जरूरी कदम
अगर सोने की कीमतों में इजाफा होता है तो फिर देश में आरबीआई जरूरी कदम उठा सकता है. इसमें वो भी कीमतों को नियंत्रण में करने के लिए अपने गोल्ड रिजर्व को बेच सकता है.

अंतरराष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने के जून अनुबंध में पिछले सत्र से 17.15 डॉलर यानी 0.99 फीसदी की तेजी के साथ 1757.35 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले सोने का भाव कॉमेक्स 1760 डॉलर प्रति औंस तक उछला. वहीं, चांदी के मई अनुबंध में पिछले सत्र से 2.01 फीसदी की तेजी के साथ 15.81 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था.

ये भी देखें- 

कमोडिटी बाजार के जानकारों ने बताया कि कोरोना के कहर से वैश्विक अर्थव्यवस्था पर छायी मंदी की आशंकाओं से सोना निवेशकों का पसंदीदा इन्वेस्टमेंट टूल यानी निवेश का उपकरण बना हुआ है. लिहाजा महंगी धातुओं के दाम में तेजी का रुख बना हुआ है.