Coronavirus Second Wave का 9 राज्यों में नहीं असर, 500 से भी कम हैं केस

कोरोना की दूसरी लहर (Coronavirus second wave) ने हाहाकार मचा रखा है. हर रोज आंकड़ों के रिकॉर्ड टूट रहे हैं. इस सबके बीच देश के 9 राज्य ऐसे हैं जहां कोरोना के मामले 500 से अधिक नहीं हैं.   

Coronavirus Second Wave का 9 राज्यों में नहीं असर, 500 से भी कम हैं केस
फाइल फोटो साभार: ANI

नई दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की दूसरी लहर ने तबाही मचा रखी है. हर रोज नए मामलों का रिकॉर्ड टूट रहा है. बीते 24 घंटे में ही 1.84 लाख लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं. कुल आंकड़ा 13,873,825 तक पहुंच चुका है. 172085 लोग कोरोना के चलते जान गंवा चुके हैं. ऐसे में भी देश के 9 राज्य ऐसे हैं जहां कोरोना की दूसरी लहर बेअसर है. यहां आज भी कुल मरीजों की संख्या 500 से कम है. 

इन राज्यों में दूसरी लहर का असर नहीं

जिन राज्यों में कोरोना की दूसरी लहर का असर नहीं है उनमें नॉर्थ ईस्ट के कई राज्य शामिल हैं. अरुणाचल प्रदेश में इस समय कोरोना के केवल 55 मरीज हैं तो लक्षद्वीप में 86 और अंडमान निकोबार आइलैंड में 93 एक्टिव केस हैं. मणिपुर में 118, नागालैंड में 174 और सिक्किम में 175 मरीजों का इलाज चल रहा है. इनके अलावा मिजोरम में 204, मेघालय में 270, त्रिपुरा में 312 एक्टिव केस हैं.

इन राज्यों की हालत खराब

दूसरी तरफ पूरे देश में कोरोना तेजी के साथ फैल रहा है. महाराष्ट्र (Maharashtra), मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बाद उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में हालात बेहद खराब होते जा रहे हैं. अकेले यूपी में बुधवार को वायरस ने पुराने सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटों के दौरान 20,510 नए मामले सामने आए हैं, जो अभी तक एक दिन में मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या है. बता दें कि मंगलवार को 18,021 नए मामले आए थे. 

लगातार बढ़ रहे मामले

कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जो राज्य सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, उनमें छत्तीसगढ़ भी शामिल है. छत्तीसगढ़ में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं. मंगलवार को भी राज्य में कोरोना के कुल 15121 मरीज मिले. जिसके बाद राज्य में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 109139 हो गई है. राजधानी रायपुर सबसे ज्यादा प्रभावित है. जहां एक ही दिन में 4 हजार से ज्यादा मरीज मिले. बीते सात दिनों में ही 67 हजार से ज्यादा मरीज मिले हैं. साथ ही राज्य में एक्टिव मरीजों की दर 22 फीसदी हो गई है.

ये भी देखें-

यह भी पढ़ें: CBSE 10th Exam: जब PM Modi ने अफसरों को टोका और पूरी तरह बदल गया फैसला

अस्पतालों में बेड की किल्लत

कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से दिल्ली के अस्पतालों की स्थिति भी बिगड़ती नजर आ रही है. देश की राजधानी दिल्ली कोरोना की चौथी लहर से जूझ रही है और मरीजों को बचाने का अस्पताल ही एकमात्र साधन है. ऐसे में जब अस्पताल में बेड के लिए आम आदमी को दरबदर भटकना पड़ रहा है तो निश्चित तौर पर ही सरकार के लिए खतरे की घंटी है.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.