असम में ढोला सदिया रिवर ब्रिज को पछाड़ते हुए बनेगा देश का सबसे लम्बा पुल

असम के धुबरी और मेघालय के फुलबाड़ी के बीच ब्रहमुत्र नदी पर 200 किलोमीटर के सफर को 20 कि.मी.में समेटेगा देश का सबसे लंबा रिवर-ब्रिज.

असम में ढोला सदिया रिवर ब्रिज को पछाड़ते हुए बनेगा देश का सबसे लम्बा पुल

अंजनील कश्यप, गुवाहाटीः भारत के सबसे बड़े रिवर ब्रिज का निर्माण असम में किया जाएगा और करीब 20 किलोमीटर लंबे इस पुल के निर्माण से 203 किलोमीटर का सफर कम होने वाला है. असम के धुबरी को मेघालय के फुलबाड़ी से जोड़ने वाले इस पुल को ब्रह्मपुत्र नदी पर बनाया जाएगा. 

करीब 19.3 किलोमीटर लंबे इस फोर-लेन ब्रिज का निर्माण 2026 से 2027 तक पूरा हो जाएगा. यह पुल बनाने में क्या-क्या चुनौतियां हैं, उन्हें देखते हुए सरकार की राजमार्ग निर्माण शाखा, नैशनल हाईवेज एंड इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने फ्रांस की बड़ी कंपनियों से संपर्क किया है. 

फिलहाल वाहन करीब 200 किलोमीटर लंबा सफर तय करके नारायणन ब्रिज से होकर जाते हैं जो इससे 60 किलोमीटर दूर है. नया ब्रिज मिसिंग लिंक एनएच 127बी के साथ असम को मेघालय से जोड़ेगा. यहां अभी धुबरी और फुलबाड़ी के बीच फेरी बोट्स चलती हैं और नदी को पार करने में करीब ढाई घंटे का समय लगता है. 

भारत में अभी सबसे लंबा रिवर ब्रिज ढोला-सदिया है जो 9.15 किलोमीटर लंबा है. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ब्रिज का उद्घाटन पिछले साल ही किया है, जो अब असम के तिनसुकिया और अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती असम का ढोला गांव से सीधे जुड़ने से अरुणाचल प्रदेश के 6 घंटे की लगभग 165 किलोमीटर की दूरी को घटाते हुए महज 1 घंटे में समेत दिया हैं . 

India's longest bridge inaugurated in Assam, PM Narendra Modi names it after Bhupen Hazarika'€‹

असम के धुबरी को मेघालय के फुलबाड़ी से जोड़ने वाले इस पुल का ब्रह्मपुत्र नद के ऊपर निर्माण हो जाने के बाद लोगो को नदी पार करने में केवल 15-20 मिनट का समय लगेगा और सबसे राहत की बात की असम और मेघालय के लोगो को जान जोखिम में डाल कर धुबरी और फुलबाड़ी के बीच ब्रह्मपुत्र नद को पार करने छोटे-छोटे बोट और नाव के सहारा नहीं लेना पड़ेगा !