जानिए बंगाल में क्या है 'कट मनी' जिसको लेकर पीएम मोदी ने साधा ममता पर निशाना

 ममता ने एक बयान में कहा था कि TMC के लोग 'कट मनी' के लिए मुर्दों को भी नहीं छोड़ रहे हैं.

जानिए बंगाल में क्या है 'कट मनी' जिसको लेकर पीएम मोदी ने साधा ममता पर निशाना
अब तक बंगाल में 'कट मनी' के खिलाफ 1500 से ज्यादा शिकायतें दर्ज हुईं है.फाइल फोटो...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कोलकाता में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री पर जमकर निशाना साधा. पीएम मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल के विकास के लिए केंद्र सरकार की तरफ से हर संभव कोशिश की जा रही है लेकिन कटमनी, सिंडिकेट नहीं होने की वजह से केंद्र की योजनाओं को राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी लागू नहीं कर रही हैं. उन्होंन कहा कि जैसे ही पश्चिम बंगाल सरकार आयुष्मान भारत योजना, पीएम किसान सम्मान निधि के लिए स्वीकृति देगी, यहां के लोगों को इन योजनाओं का भी लाभ मिलने लगेगा. जिससे गरीबों, दलितों, वंचितों, शोषितों और पिछड़ों के विकास में सहायता मिलेगी.

तो आइए जानते हैं बंगाल में क्या है कटमनी जिसको लेकर पीएम मोदी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा है. योजनाओं की मंजूरी के लिए एक अनौपचारिक कमीशन लिया जाता है इसे 'कट मनी' कहते हैं. 2011 में ममता के सीएम बनने के बाद TMC पर 'कट मनी' लेने के आरोप लगे थे.

यह भी देखें:-

आरोप यह भी लगा था कि गरीबों को दाह संस्कार के लिए मिलने वाले पैसे में भी कमीशनखोरी हुई है. अब तक बंगाल में 'कट मनी' के खिलाफ 1500 से ज्यादा शिकायतें दर्ज हुईं है. जबरदस्त विरोध प्रदर्शन के बाद ममता ने 'कट मनी' के आरोप को स्वीकार किया था. ममता ने एक बयान में कहा था कि TMC के लोग 'कट मनी' के लिए मुर्दों को भी नहीं छोड़ रहे हैं. जिसके बाद आदेश देते हुए कहा था कि TMC के नेता और जनप्रतिनिधि 'कट मनी' वापस करें. 

ममता पर पीएम मोदी के 5 प्रहार
1. पश्चिम बंगाल सरकार केंद्र की योजनाओं को लागू नहीं कर रही है.
2. बंगाल में आयुष्मान योजना और किसान सम्मान निधि योजना लागू नहीं.
3. केंद्र की योजनाओं में न तो कट मिल पाता है और न ही कमीशन.
4. केंद्र की योजनाओं को ममता मंजूरी देंगी, तो लोगों को लाभ मिलेगा.
5. बंगाल के नीति निर्धारकों को सद्बुद्धि दे ईश्वर.