close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फोन पर बात करने से किया मना तो बेटी ने प्रेमी संग मिलकर कर दी पिता की हत्‍या

किशोरी ने पहले अपने पिता को नशीला पदार्थ देकर बेहोश कर दिया, फिर अपने प्रेमी के साथ मिलकर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर उनकी हत्‍या कर दी. 

फोन पर बात करने से किया मना तो बेटी ने प्रेमी संग मिलकर कर दी पिता की हत्‍या

बैंगलूरू: कर्नाटक के बैंगलूरू शहर से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. जहां 15 साल की एक किशोरी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने पिता की नृशंस तरीके से हत्‍या कर दी है. पिता का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने 9वीं में पढ़ने वाली अपने बेटी को फोन पर बात न करने और पढ़ाई करने की नसीहत दी थी. 

किशोरी को अपने पिता की नसीहत इतनी नागवार गुजरी कि उसने अपने प्रेमी के साथ मिलकर उनकी हत्‍या कर दी. पुलिस ने मृतक की पहचान 41वर्षीय  जयकुमार के रूप में की है. जय कुमार मूल रूप से जोधपुर (राजस्‍थान) के रहने वाले हैं. बैंगलूरू में उनका आभूषणों का कारोबार है. 

बैंगलूरू नार्थ के डीसीपी एन.शशि कुमार के अनुसार, यह वारदात शनिवार-रविवार रात की है. 15 वर्षीया नाबालिग ने अपने पिता को बेहोश करने के लिए दूध में नशीली दवाइयां मिला दीं. पिता के बेहोश होने के बाद किशोरी ने थप्पड़ मार कर इस बात की पुष्टि कर ली कि उसके पिता बेहोश हो चुके हैं. 

इसके बाद, उसने अपने 19 साल के प्रेमी प्रवीण को अपने घर बुलाया. दोनो ने पहले चाकू से गोद कर जयकुमार की सांसों को बंद कर दिया, उसके बाद सुबह होने का इंतज़ार किया. सुबह किशोरी पास के पेट्रोल पंप से जा कर दो लीटर पेट्रोल ले कर आई और पिता के शव को बाथरूम ले जाकर उसमें आग लगा दी. 

इस दौरान, इन दोनों के पांव भी झुलस गए. वहीं, घर से आग की लपटें निकलती देख पड़ोसियों ने सूचना दमकल विभाग को दी. वहीं आग बुझाने के दौरान, दमकल कर्मियों ने बाथरूम में जय कुमार का झुलसा हुआ शव देखा. मौका-ए-वारदात पर जब पुलिस ने पूछताछ शुरू की तो लड़की ने पहले झूठ बोल दिया. 

बैंगलूरू नार्थ के डीसीपी एन.शशि कुमार ने बताया कि बिस्तर पर मौजूद खून के धब्बो ने उन्हें सच बोलने पर मजबूर कर दिया. पुलिस ने प्रेमी को गिरफ्तार कर किशोरी को हिरासत में ले लिया है. प्रवीण को जहां जेल भेजा गया है, वहीं नाबालिग लड़की को बाल सुधार घर पहुंच दिया गया है. 

पुलिस के अनुसार, जिस समय इस घटना को अंजाम दिया जा रहा था, उस समय घर पर कोई और मौजूद नहीं था. मृतक जयकुमार की पत्नी अपने बेटे को ले कर किसी समारोह में शामिल होने के लिये पुदुच्चेरी गई हुई थीं. घर पर सिर्फ पिता और बेटी मौजूद थे. 

डीसीपी एन.शशि कुमार के अनुसार, जांच के दौरान वारदात की चौकाने वाली वजह सामने आई है. दरअसल, किशोरी की पहचान अपने प्रेमी प्रवीण से पिछले 5 सालों से है. दोनों एक ही स्कूल में साथ-साथ पढ़ते थे. प्रवीण 3 साल सीनियर था. पहले दोनों की मुलाकात स्कूल में ही हो जाया करती थी. 

LIVE TV:

डीसीपी एन.शशि कुमार के अनुसार, स्कूल पास कर जब प्रवीण कॉलेज चला गया, जिसके बाद दोनों मॉल्‍स पर मिलने लगे. दोनों की फोन पर घंटो बात भी होती थी. यह बात ज्‍यादा दिनों तक छुपी नही रही. जयकुमार को जब पता लगा तो उन्होंने ना सिर्फ अपनी बेटी का फ़ोन छीन लिया, बल्कि उसकी पिटाई भी की. 

जयकुमार चाहते थे कि उनकी बेटी प्रवीण से अपनी दोस्ती को खत्म कर ले. प्रतिबंध लगने के बाद भी दोनों की दोस्ती खत्म नही हुई. प्रवीण ने किशोरी को नया फोन ला कर दे दिया था. अब वो चोरी-चोरी एक दूसरे से मिलते और बाते करते थे. किशोरी अपने आजादी खत्म होने से बेहद परेशान थी. 

वह किसी भी हालत में अपनी आजादी और अपने प्रेमी को पाना पाना चाहती थी. इसीलिए, उसने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने पिता की हत्‍या की साजिश रच डाली. शनिवार को जैसे ही उसे मौका मिला, उसने साजिश के तहत अपने पिता की हत्‍या अपने प्रेमी की मदद से कर दी.