राज्‍यसभा में नोटबंदी पर बहस : पीएम मोदी के सदन में न आने पर फिर हंगामा, जेटली बोले- चर्चा से भाग रहा विपक्ष

बड़े नोटों को अमान्य करने के मोदी सरकार के निर्णय के विरोध में  विपक्षी सदस्यों ने गुरुवार को भी संसद में हंगामा किया। राज्‍यसभा की कार्यवाही आज सुबह शुरू होते ही विपक्ष ने भारी हंगामा किया। बाद में राज्‍यसभा में पीएम मोदी के मौजूद रहने के बाद नोटबैन पर चर्चा शुरू हुई। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि हम नोट बैन के फैसले नहीं तरीके के खिलाफ हैं।

राज्‍यसभा में नोटबंदी पर बहस : पीएम मोदी के सदन में न आने पर फिर हंगामा, जेटली बोले- चर्चा से भाग रहा विपक्ष

नई दिल्‍ली : बड़े नोटों को अमान्य करने के मोदी सरकार के निर्णय के विरोध में  विपक्षी सदस्यों ने गुरुवार को भी संसद में हंगामा किया। राज्‍यसभा की कार्यवाही आज सुबह शुरू होते ही विपक्ष ने भारी हंगामा किया और प्रश्‍नकाल बाधित हो गया। नोटबंदी के मुद्दे पर हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। उसके बाद कार्यवाही शुरू होने पर नोटबैन पर चर्चा शुरू की गई। राज्‍यसभा में आज पीएम मोदी के मौजूद रहने के बाद नोटबैन पर चर्चा शुरू हुई। पीएम मोदी इस समय राज्‍यसभा की कार्यवाही में हिस्‍सा ले रहे हैं।

लाइव अपडेट:-

-राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 3 बजे तक के लिए स्‍थगित।

-राज्यसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू होने पर पीएम मोदी के न आने से विपक्ष ने किया हंगामा।

-सदन में पीएम मोदी के न आने पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यदि पीएम नहीं आएंगे तो चर्चा नहीं होगी। मंत्री बताएं पीएम सदन में आएंगे या नहीं। 

-अरुण जेटली ने कहा कि मुझे यकीन था कि विपक्ष चर्चा से भागेगा।  ऐसी कोई प्रथा नहीं कि पीएम नहीं तो चर्चा नहीं।

-राज्यसभा में सदन के नेता अरूण जेटली ने कहा कि प्रधानमंत्री नोटबंदी के मुद्दे पर अपना पक्ष रखेंगे।

-जेटली ने कहा कि अगर बहस को आगे नहीं बढ़ाया जाता है तो विपक्ष से किसी को भी बोलने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

-नोटबैन पर चर्चा के बीच राज्‍यसभा की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्‍थगित। 

-नोटबैन पर राज्‍यसभा में चर्चा के दौरान बसपा प्रमुख ने कहा कि नोटबंदी का फैसला सही लेकिन तरीका ठीक नहीं।

-देश की 90 फीसदी जनता आज भी बैंकों, एटीएम के बाहर खड़ी है: मायावती।

-नोटबैन पर राज्‍यसभा में चर्चा में भाग लेते हुए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि हम नोट बैन के फैसले नहीं तरीके के खिलाफ हैं। लोगों की परेशानियों का समाधान जरूरी है।

-हम भ्रष्टाचार से मुकाबला करने के उद्देश्य को लेकर असहमत नहीं हैं लेकिन जिस तरह यह (नोटबंदी) किया गया वह व्यवस्था की असफलता है: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह।

-गरीबों के लिए 50 दिन का इंतजार मुश्किल है। पीएम ने कहा था कि देशवासियों से कहा था कि 50 दिन का इंतजार करें।

-नोटबंदी पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने राज्‍यसभा में कहा कि मनमोहन सिंह ने कहा कि हम नोटबंदी के खिलाफ नहीं हैं। सरकार के फैसले से पूरी तरह असहमत नहीं है। नोटबंदी के फैसले लागू करने में व्‍यवस्‍था सही नहीं है। नोटबंदी लागू करने में पीएमओ फेल है।

-नोटबंदी के बाद हर दिन नए नियम बनाना सही नहीं है, लोगों की परेशानियों का समाधान जरूरी है: मनमोहन सिंह।

-पीएम ने 50 दिन मांगे लेकिन गरीबों के लिए ये दिन भी बहुत हैं, इनके लिए 50 दिन का इंतजार बहुत है। लोगों की परेशानियों का समाधान जरूरी है। लोगों के पास पैसे हैं लेकिन वे निकाल नहीं सकते हैं: मनमोहन सिंह।  

-सरकार हर दिन नए नियम बना रही है: मनमोहन सिंह।
 
-नोटबैन की वजह से 60 से ज्‍यादा लोगों की जानें गईं: मनमोहन सिंह।

-नोटबंदी से खेती, किसान और छोटे उद्योगों पर असर। मजदूर परेशान हैं: मनमोहन सिंह।    

और पढ़ें :- लोकसभा में हंगामा, अक्षय यादव ने कागज फाड़कर स्पीकर पर फेंका

-नोटबंदी से विकास दर दो फीसदी गिर सकती है, नोटबंदी से अर्थव्‍यवस्‍था कमजोर हुई है: मनमोहन सिंह।  

-सपा नेता नरेश अग्रवाल ने कहा कि हम नोटबंदी के खिलाफ नहीं, फैसले के तरीके के खिलाफ हैं। नोटबैन के फैसले का विरोध करते हैं।

-पीएम इस तुगलकी फरमान को वापस लें - नरेश अग्रवाल

-इमरजेंसी क्‍या हुआ था सबने देखा, देश में आर्थिक आपातकाल जैसी हालत: नरेश अग्रवाल।   

-फैसला देशहित में नहीं, यूपी चुनाव की वजह से लिया गया। बैंक कहते हैं नोटिफिकेशन नहीं आया। विदेशों से कालाधन कब लाएगी सरकार: नरेश अग्रवाल।

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा की बैठक में हिस्सा लिया जहां विपक्षी सदस्य नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा को आगे बढ़ाने के लिए उनकी उपस्थिति की मांग कर रहे थे। राज्यसभा में प्रधानमंत्री की उपस्थिति में नोटबंदी के कारण लोगों को हो रही परेशानी पर चर्चा आगे बढ़ी। 

-नोटबंदी के मुद्दे पर हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक 11 बजकर करीब 20 मिनट पर दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

-वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी पर विपक्ष बहस शुरू करे।

-विपक्ष हमेशा शर्त के साथ सामने आता है।

-आप लोग बोलकर निकल जाएंगे, हमारी बोलने की बारी आएगी तो आप हंगामा करेंगे: जेटली।  

-जेटली ने मनमोहन सिंह के पहले बोलने का विरोध किया।

-मायावती ने कहा कि पीएम के आने के बाद ही चर्चा शुरू होगी

-राज्‍यसभा में पीएम की मौजूदगी की मांग को लेकर हंगामा।

-विपक्ष सरकार के साथ बातचीत के लिए तैयार नहीं।

-नोटबैन के मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में हंगामा।  

विपक्ष लगातार चर्चा के दौरान पीएम की मौजूदगी की मांग कर रहा था। बता दें कि संसद की कार्यवाही लगातार 7 दिनों से स्‍थगित हो रही है। बता दें कि विपक्ष लगातार चर्चा के दौरान पीएम की मौजूदगी की मांग कर रहा है। राज्यसभा में नोटबंदी पर चर्चा पर आज वित्त मंत्री अरुण जेटली जवाब दे सकते हैं। ऐसी संभावना है कि इस चर्चा पीएम भी हस्तक्षेप कर सकते है। दूसरी ओर, संसद की कार्यवाही से पहले आज विपक्ष ने बैठक की और आगे की रणनीति तय की। वहीं, सरकार संसद में जारी गतिरोध को तोड़ने की कोशिश में है। जबकि विपक्ष आज राजनाथ सिंह की ओर से बुलाई गई बैठक में नहीं जाएगा। दूसरी ओर, विपक्ष सरकार से बातचीत के लिए तैयार नहीं है। विपक्ष ने कहा कि 28 नवंबर से पहले सरकार के साथ बातचीत नहीं होगी। 28 नवंबर को देशभर में विपक्ष का विरोध प्रदर्शन है। विपक्ष आक्रोश दिवस मनाने की तैयारी कर रहा है।