close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने चिदंबरम से तिहाड़ जेल में की मुलाकात

ऐसा बताया जा रहा है कि दोनों नेताओं के दौरे के लिए कुछ अलग से व्यवस्था नहीं है, इनकी अपनी एसपीजी सिक्योरिटी है

सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने चिदंबरम से तिहाड़ जेल में की मुलाकात

नई दिल्लीः आईएनएक्स मीडिया केस में तिहाड़ जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से जेल में मिलने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी गए थे. सोमवार सुबह 8:47  मिनट पर दोनों नेताओं की गाड़ी 7 नंबर जेल वाले गेट से अंदर गई. दोनों की पी चिदंबरम से मुलाकात सुपरिटेंडेंट के ऑफिस में हुई.

क़रीब आधे घंटे तक मुलाकात करने के बाद 9:37 मिनट पर मनमोहन सिंह और सोनिया गांधी अपनी गाड़ी में बैठ कर डीजी ऑफिस वाले गेट से निकल गए. 

दोनों भारी सुरक्षा के साथ एक गाड़ी में ही पी चिदंबरम से मिलने आये थे. 

पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर दिल्ली HC में सुनवाई कल; CBI ने जमानत का किया है विरोध
INX मीडिया हेराफेरी से जुड़े सीबीआई केस में पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में आज (23 सितंबर) सुनवाई होनी है.पिछली सुनवाई में हाईकोर्ट ने चिदंबरम की जमानत याचिका पर सीबीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था.इसके बाद सीबीआई ने हाईकोर्ट में जवाब दाखिल किया था.सीबीआई ने चिदंबरम की जमानत का विरोध करते हुए कहा था कि अगर चिदंबरम को जमानत मिलती है तो भ्रष्टाचार के मामलों में गलत संदेश जाएगा और ये जनता के विश्वास के साथ धोखा करने का स्पष्ट मामला है.

इससे पहले कोर्ट ने चिदंबरम द्वारा दायर किए अर्जी को भी स्वीकार कर लिया था. इनमें जेड-श्रेणी की सुरक्षा के साथ एक खाट, बाथरूम के साथ एक अलग सेल और दवाओं की अनुमति मांगी गई थी. उन्होंने जेल में पश्चिमी शैली के शौचालय (इंग्लिश टॉयलेट) की भी मांग की थी. उधर, ईडी केस में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा था.कोर्ट ने चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी.

सुप्रीम कोर्ट में ईडी की ओर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने चिदंबरम की अग्रिम जमानत का विरोध करते हुए कहा था कि अगर चिदंबरम को अग्रिम जमानत सुप्रीम कोर्ट देता है तो उसके विनाशकारी परिणाम होंगे. ऐसा इसलिए क्योंकि इसका सीधा असर विजय माल्या, मेहुल चौकसी, नीरव मोदी, शारदा चिटफंड, टेरर फंडिंग जैसे मामले पर पड़ेगा.तुषार मेहता ने सबूत दिखाकर बिना गिरफ्तारी पूछताछ की मांग का विरोध करते हुए कहा था कि जांच कैसे हो, एजेंसी ज़िम्मेदारी से इसका फैसला लेती है. जो आरोपी आज़ाद घूम रहा है, उसे सबूत दिखाने का मतलब है बचे हुए सबूत मिटाने का न्योता देना.