close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली पर मंडराया बाढ़ का खतरा, निचले इलाकों से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाए गए 10 हजार लोग

हथनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद से यमुना के आसपास के निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट कर दिया गया है.

दिल्ली पर मंडराया बाढ़ का खतरा, निचले इलाकों से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाए गए 10 हजार लोग
हथिनीकुंड बैराज से यमुना में 2 लाख 57 हज़ार क्यूसिक पानी छोड़ा गया है.

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. हरियाणा के कई इलाकों में हो रही लगातार बारिश के कारण दिल्ली में यमुना नदी उफान पर है. शनिवार को हरियाणा के हथनीकुंड बैराज से करीब नौ लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद दिल्ली में यमुना का पानी खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है. हथनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद दिल्लीवालों की परेशानी बढ़ गई है. यमुना नदी का जलस्तर खतरे के स्तर 204.5 मीटर से 205.94 मीटर, बढ़कर 1.44 मीटर हो गया है. युमना ब्रिज से ट्रेनों की आवाजाही को फिलहाल रोक दिया गया है. जानकारी के मुताबिक, अब तक 10 हजार लोगों को निचले इलाके से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

प्रशासन ने कसी कमर
दिल्ली में बाढ़ से लोगों को ज्यादा नुकसान न हो इसके लिए प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा पूरी तैयारी कर ली गई है. आज 23,816 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया जाएगा. बाढ़ से परेशान होने वाले लोगों को 2120 रिलीफ कैम्प बनाएं जाएंगे, जिनमें से 1100 तैयार हो चुके हैं.

30 लोकेशन पर नाव को किया गया तैनात
दिल्ली के निचले इलाकों में प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा 30 लोकेशन को प्वाइंट किया गया है. साथ ही इन जगहों पर 53 नाव को तैनात किया गया है. इसके साथ ही इमरजेंसी नंबर जारी किए गए है. दिल्ली में रहने वाले लोगों को बाढ़ से किसी भी तरह की परेशानी होती है तो वह 21210849, 22421656 पर कॉल कर सकते हैं. 

जलस्तर ने तोड़ा 6 सालों का रिकॉर्ड
हथनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद राज्य के सिंचाई विभाग ने हाई फल्ड घोषित कर दिल्ली सिंचाई विभाग को सूचित कर दिया है. हथिनीकुंड बैराज में जलस्तर ने 6 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. रविवार को जलस्तर 8.28 लाख क्यूसेक तक पहुंच गया था. इससे पहले साल 2013 में जलस्तर 8 लाख क्यूसेक था. अभी तक हथिनीकुंज बैराज से यमुना में 8 लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा जा चुका है. 

निचले इलाकों को किया गया अलर्ट
हथनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद से यमुना के आसपास के निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट कर दिया गया है. प्रशासनिक अधिकारियों की ओर से कहा गया है कि मंगलवार को यमुना का जलस्तर बढ़ सकता है, जिसके कारण लोगों को परेशानी हो सकती है. इसके साथ ही कई निचले इलाकों को प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा खाली करवाया गया है.