केजरीवाल के धरने का नौवां दिन, सीएम ने कहा- LG के पास दिल्ली के लिए 8 मिनट का भी समय नहीं

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का उपराज्यपाल के कार्यालय में घरना आज (मंगलवार) को भी जारी है. 

केजरीवाल के धरने का नौवां दिन, सीएम ने कहा- LG के पास दिल्ली के लिए 8 मिनट का भी समय नहीं
अरविंद केजरीवाल. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का उपराज्यपाल कार्यालय में धरना (मंगलवार) को भी जारी है. आज धरने का नौवां दिन है. अपनी मांगों को लेकर भूख हड़ताल पर बैठे डिप्टी सीएम मनीष सोसिदिया और सत्‍येंद्र जैन की तबीयत खराब होने के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें एलएनजेपी अस्पताल ले जाया गया. सिसोदिया से पहले स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की हालत भी खराब होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

आज सुबह ट्वीट कर सीएम केजरीवाल ने कहा, ''श्रीमान उपराज्यपाल से मिलने के इंतजार में आठ दिन बीत गए. उपमुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री की तबीयत बिगड़ने के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया है. आठ दिनों में श्रीमान उपराज्यपाल दिल्ली की जनता के लिए आठ मिनट का समय नहीं निकाल पाए हैं.''

उन्होंने आगे कहा कि उम्मीद है उन्हें आज कुछ समय मिल जाएगा. आपको बता दें कि अरविंद केजरीवाल अपने सहयोगियों के साथ बीते सोमवार (11 जून) से उपराज्यपाल के कार्यालय में धरना देकर मांग कर रहे हैं कि उपराज्यपाल आईएएस अधिकारियों को हड़ताल खत्म करने का निर्देश दें और घर तक राशन आपूर्ति योजना को मंजूरी दें.

 

 

... तो रामगोपाल यादव भी देंगे धरना
उधर, सोमवार को समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राम गोपाल यादव ने अस्पताल में भर्ती मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो हम भी धरना देंगे. धरने के समर्थन में 'आम आदमी पार्टी' कार्यकर्ताओं ने रविवार को मध्य दिल्ली में प्रदर्शन मार्च निकाला था. 'आप' के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि यह एक संदेश है कि परेशान किए जाने पर दिल्ली की जनता चुप नहीं रहेगी. 
यह भी पढ़ें: CM केजरीवाल पर नकवी का तंज, 'काम करने में जीरो और धरना देने में हीरो'

कोर्ट की फटकार के बाद नरम पड़े...
उधर, दिल्ली हाई कोर्ट ने धरने पर बैठे दिल्ली सरकार को फटकार लगाई. कोर्ट ने पूछा कि उप-राज्यपाल के दफ्तर में 'आप' किस तरह का धरना प्रदङर्शन कर रही है, इसे किसने अधिकृत किया है. न्यायालय ने यह टिप्पणी भी की कि हड़ताल या धरना किसी के दफ्तर या आवास के भीतर नहीं बल्कि बाहर किया जाता है. पूरे मामले में कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद आईएएस अधिकारियों और दिल्ली सरकार दोनों के सुर थोड़े नरम पड़ते नजर आए. दोनों पक्ष गतिरोध दूर करने के लिए वार्ता को लेकर तैयार दिख रहे हैं. समझा जा रहा है कि केजरीवाल जल्द ही अपना अनशन समाप्त कर सकते हैं.

सिसोदिया ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर मामले को सुलझाने के लिए आप सरकार के मंत्रियों और नौकरशाहों की बैठक बुलाने का अनुरोध किया. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को उनकी सुरक्षा का आश्वासन दिया था. अधिकारियों ने उनकी सुरक्षा के बारे में केजरीवाल के आश्वासन का स्वागत किया और कहा कि वे इस मामले पर मुख्यमंत्री के साथ औपचारिक बातचीत के लिए तैयार हैं. 
यह भी पढ़ें: कांग्रेस ने आप पर लगाया आरोप- केजरीवाल के 'बढ़े हुए अहंकार' से दिल्लीवासी परेशान

केजरीवाल को मिला शिवसेना का साथ
उधर, केजरीवाल की शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से बातचीत हुई और उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी की स्थिति के बारे में अवगत कराया. ठाकरे के मीडिया सलाहकार हर्षल प्रधान ने कहा कि केजरीवाल ने ठाकरे से बातचीत की. उन्होंने कहा, ‘उद्धवजी का मानना है कि दिल्ली में चुनी हुई सरकार को बिना किसी अड़चन के काम करने देना चाहिए.’ प्रधान ने साफ किया कि इसका ये मतलब नहीं है कि शिवसेना केजरीवाल और आप का समर्थन कर रही है.

राहुल गांधी ने पीएम पर साधा निशाना
दूसरी तरफ, दिल्ली के बहाने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री उपराज्यपाल कार्यालय में धरने पर बैठे हैं. बीजेपी मुख्यमंत्री कार्यालय में धरने पर बैठी है. दिल्ली के नौकरशाह संवाददाता सम्मेलन संबोधित कर रहे हैं.' उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली में इस अराजकता और अव्यवस्था को सुलझाने के लिए पहल करने की बजाय आंखे मूंद ली हैं. गांधी ने कहा कि दिल्ली में जो नाटक चल रहा है उससे जनता परेशान है.