Breaking News
  • नोएडा: सेक्‍टर 64 की एक एक्‍सपोर्ट फैक्‍ट्री में आग, फायर ब्रिगेड की 16 गाड़ियां मौके पर मौजूद
  • बडगाम: जैश आतंकियों के 6 मददगार गिरफ्तार

लोकसभा चुनाव में ताल ठोकेगी AAP, बीजेपी के खिलाफ इन 5 राज्यों में उतारेगी अपने उम्मीदवार

आम आदमी पार्टी उन राज्यों की उन सीटों पर भी AAP प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे जहां भाजपा को हराने में वे सक्षम होंगे.

लोकसभा चुनाव में ताल ठोकेगी AAP, बीजेपी के खिलाफ इन 5 राज्यों में उतारेगी अपने उम्मीदवार
उन राज्यों की उन सीटों पर भी आप प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे जहां भाजपा को हराने में वे सक्षम होंगे.

नई दिल्ली: दिल्ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय का कहना है कि आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के निरंकुश शासन को समाप्त करने के लिए दिल्ली, पंजाब, गोवा, चंडीगढ़ और हरियाणा से आगामी 2019 में लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. हालांकि राय ने विपक्षी दलों द्वारा प्रस्तावित महागठबंधन में आप के शामिल होने के बारे में कुछ नहीं बताया.

'आप' की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने बताया, ''परिषद ने तय किया है कि लोकसभा चुनाव में अपनी (आप) भूमिका को निभाने के साथ साथ मोदी सरकार को हटाने के लिए जो भी सहयोग की जरूरत होगी उसे करेंगे और इस तानाशाही पूर्ण सरकार को उखाड़ कर फेकेंगे.''

राय ने कहा कि आम आदमी पार्टी की परिषद ने शुक्रवार को राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में लोकसभा चुनाव की तैयारी और रणनीति को लेकर स्वीकृत किये गये प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इसके तहत आप दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, गोवा और चंडीगढ़ की सभी लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

इसके अलावा उन राज्यों की उन सीटों पर भी आप प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे जहां भाजपा को हराने में वे सक्षम होंगे. इन सीटों के चयन के लिये राष्ट्रीय परिषद ने पार्टी की प्रदेश इकाईयों को संगठन के स्तर पर चुनावी तैयारियों की रिपोर्ट बनाने को कहा है. इनकी रिपोर्ट के आधार पर राजनीतिक मामलों की समिति चुनाव लड़ने वाली सीटों का चयन करेगी.

मोदी सरकार की वादाखिलाफी
चुनाव प्रचार अभियान के बारे में राय ने बताया कि आप अगले लोकसभा चुनाव में किसानों के साथ मोदी सरकार की वादाखिलाफी को प्राथमिकता से उठायेगी. इसके अलावा महिला सुरक्षा और राफेल खरीद मामले में भ्रष्टाचार को भी चुनावी मुद्दा बनायेगी. इसके अलावा शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में दिल्ली सरकार के ऐतिहासिक कार्यों को चुनाव प्रचार के दौरान लघु फिल्मों के माध्यम से विभिन्न राज्यों में जनता के बीच ले जाने का परिषद ने फैसला किया है.

कुमार विश्वास नदारद
आम आदमी पार्टी की बैठक में 20 राज्यों के लगभग 250 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. समझा जाता है कि पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे कार्यकारिणी के सदस्य कुमार विश्वास दोनों बैठकों से नदारद रहे. विश्वास और पार्टी की ओर से इस बारे में कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं की गयी है.

कार्यकाल बढ़ाया
आप की राष्ट्रीय परिषद ने अगले साल लोकसभा चुनाव और इसके बाद दिल्ली के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल सहित परिषद के सभी सदस्यों का कार्यकाल एक साल के लिये बढ़ा दिया है. शनिवार को हुई परिषद की बैठक में यह फैसला किया गया. दिन भर चली बैठक के बाद पार्टी के प्रवक्ता पंकज गुप्ता ने बताया ‘‘सर्वसम्मति से यह तय किया गया कि अगले साल लोकसभा चुनाव है और इसके कुछ महीने बाद दिल्ली विधानसभा चुनाव है, इसके मद्देनजर हम सबने फैसला किया है कि इस परिषद की कार्यअवधि को एक साल और बढ़ाया जाये.’’

बैठक में फैसला
गुप्ता ने बताया कि अगले साल 23 अप्रैल को मौजूदा परिषद का कार्यकाल समाप्त होगा. इसके मद्देनजर परिषद ने यह तय किया है कि या तो एक साल या इसके पहले, जब भी चुनाव हो सके, तब ही राष्ट्रीय परिषद का पुनर्गठन किया जाये. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से अटकलें लगाई जा रही थीं कि परिषद का कार्यकाल बढ़ाया जायेगा या पार्टी के संविधान में संशोधन किया जायेगा. राष्ट्रीय परिषद ने 7वीं बैठक में इस विषय पर चर्चा करने के उपरांत यह फैसला किया है.

उल्लेखनीय है कि आप के संविधान के मुताबिक पार्टी संयोजक सहित राष्ट्रीय परिषद के अन्य पदों पर कोई व्यक्ति लगातार दो बार ही रह सकता है. इसके मद्देनजर केजरीवाल को संयोजक बनाये रखने के लिये राष्ट्रीय परिषद का कार्यकाल बढ़ाने या संविधान संशोधन का ही विकल्प था.