'आप' और 'भाजपा' की लड़ाई में पानी में डूबी दिल्ली - अजय माकन

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि भाजपा और आप की लड़ाई का खामियाजा दिल्ली के आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है. दोनों ने जलभराव की समस्या से निपटने के लिए कुछ भी नहीं किया.

'आप' और 'भाजपा' की लड़ाई में पानी में डूबी दिल्ली - अजय माकन
बारिश में दिल्ली के कई इलाकों में जल भराव पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने आप और भाजपा पर बोला हमला (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने दिल्ली में बारिश के कारण हो रहे जल भराव के चलते आम लोगों को हो रही दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार और नगर निगमों में सत्ता पर काबिज भाजपा पर जम कर हमला बोला. माकन ने कहा कि भाजपा और आम आदमी पार्टी की लड़ाई का खामियाजा दिल्ली के आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है. दिल्ली सरकार व नगर निगम दोनों ने दिल्ली में जलभराव की समस्या से निपटने के लिए कुछ भी नहीं किया. दिल्ली में जल भराव की समस्या का स्थाई हल निकाला गया होता तो आज दिल्ली जो कि देश की राजधानी है, पानी में डूबी नही दिखाई देती है.

 लोगों के घरों तक में भर गया पानी
माकन ने कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार साढे तीन वर्षो से ज्यादा समय से दिल्ली में है. वहीं निगम में भाजपा एक दशक से ज्यादा समय से सत्ता में है लेकिन हर वर्ष दिल्ली के लोगों को बारिश के दिनों में जल भराव की समस्या से जूझना पड़ता है. हालात ऐसे बने हुए है कि पानी न सिर्फ सड़कों पर भरा हुआ है बल्कि गलियों पार्कों तथा लोगों के घरों तक में भी भरा हुआ है. जल भराव के कारण न सिर्फ जाम की समस्या के कारण लोगों को घंटों सड़कों पर गुजारने पड़ते है बल्कि करोड़ो रुपये का ईंधन बर्बाद हो जाता है. लोगों को रोजमर्रा की जरुरतों को पूरा करने के लिए घर से बाहर निकलने में भी परेशानियां होती है.

ये भी पढ़ें : दिल्ली में झमाझम बारिश, कई जगहों पर जलभराव

 नालों से नहीं निकाली गई गाद
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष माकन ने कहा कि दिल्ली सरकार की वेबसाईट पर मौजूद आंकड़ो के अनुसार दिल्ली सरकार के अन्तर्गत आने वाले पीडब्लूडी विभाग द्वारा नालों की गाद निकालने का काम 15 जून 2018 तक हो जाना चाहिए था परंतु 15 जून 2018 तक केवल 17 प्रतिशत सड़कों के साथ लगे नालों की गाद निकालने को पूरा हो पाया था, इसके बाद दिल्ली सरकार ने 30 जून 2018 तक की समय सीमा बढ़ाई परंतु 29 जून 2018 तक सिर्फ 37 प्रतिशत ही गाद निकालने का काम पूरा हो सका और 27 जुलाई 2018 तक केवल 39 प्रतिशत सड़कों से सटे नालों की गाद निकाली गई. माकन ने कहा कि जब नालों की सफाई का काम ही पूरा नही हुआ तो दिल्ली में बारिश के समय जल भराव तो होना ही था. माकन ने कहा कि यही हाल दिल्ली नगर निगम के अन्तर्गत आने वाली सड़कों के साथ सटे नालों की सफाई का है. माकन ने कहा कि दिल्ली में 96 जगह सरकार ने ऐसी चिन्हित की है जहां पर बारिश के समय में जल भराव होता है तथा इन जगहों पर जल भराव को तीन या तीन से ज्यादा बार देखा गया है.