close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

DCW में नियुक्ति मामले में ACB ने दिल्ली के डिप्टी CM सिसौदिया को तलब किया

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया को एंटी करप्शन ब्यूरो ने तलब किया है। एंटी करप्शन ब्यूरो ने दिल्ली महिला आयोग में नियुक्ति में कथित गड़बड़ के मामले में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया को समन भेजा है। एसीबी ने दिल्ली महिला आयोग में कथित भर्ती घोटाले के बाबत दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को समन भेजकर 14 अक्तूबर को अपने समक्ष पेश होने को कहा है। गौर हो कि एसीबी ने पहले स्वाति मालीवाल के खिलाफ आयोग की भर्तियों में कथित अनियमितता मामले में 21 सितंबर को एफआईआर दर्ज की थी।

DCW में नियुक्ति मामले में ACB ने दिल्ली के डिप्टी CM सिसौदिया को तलब किया

नई दिल्ली: दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया को एंटी करप्शन ब्यूरो ने तलब किया है। एंटी करप्शन ब्यूरो ने दिल्ली महिला आयोग में नियुक्ति में कथित गड़बड़ के मामले में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया को समन भेजा है। एसीबी ने दिल्ली महिला आयोग में कथित भर्ती घोटाले के बाबत दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को समन भेजकर 14 अक्तूबर को अपने समक्ष पेश होने को कहा है। गौर हो कि एसीबी ने पहले स्वाति मालीवाल के खिलाफ आयोग की भर्तियों में कथित अनियमितता मामले में 21 सितंबर को एफआईआर दर्ज की थी।
 
भ्रष्टाचार निरोधक शाखा (एसीबी) ने दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्लू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के खिलाफ आयोग की भर्तियों में कथित अनियमितता मामले में 21 सितंबर को एफआईआर दर्ज की थी। मालीवाल के खिलाफ भ्रष्टाचार, आपराधिक विश्वासघात और आपराधिक साजिश रचने संबंधी धाराएं लगाई गई थीं। मालीवाल के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा 13, भारतीय दंड संहिता की धारा 409 (आपराधिक विश्वासघात) और 120 बी (आपराधिक साजिश रचने) के तहत मामला दर्ज किया गया।

डीसीडब्लू की पूर्व प्रमुख बरखा शुक्ला सिंह की शिकायत पर एसीबी मामले में जांच कर रही है। इस मामले में पुलिस ने स्वाति मालीवाल से पूछताछ भी की है। एसीबी के मुताबिक वह इस मामले की तीन-चार महीने से जांच कर रही है। जांच में कुल 91 नियुक्तियां उचित प्रक्रियाओं के अनुरूप नहीं पाई गईं। अपनी शिकायत में पूर्व प्रमुख बरखा सिंह ने 85 लोगों को नाम दिया था और दावा किया था कि उन्हें अनिवार्य योग्यता के बिना डीसीडब्लू में नौकरी दी गई