close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केजरीवाल पर 'मिर्ची अटैक' के चलते सोमवार को विधानसभा का विशेष सत्र, कांग्रेस ने उठाए सवाल

अजय माकन ने कहा कि व्यक्ति विशेष से जुड़े मामले पर विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने से इसकी गरिमा को ठेस पहुंचेगी.

केजरीवाल पर 'मिर्ची अटैक' के चलते सोमवार को विधानसभा का विशेष सत्र, कांग्रेस ने उठाए सवाल
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने दिल्ली विधानसभा स्पीकर को चिट्ठी लिखकर विधानसभा के विशेष सत्र बुलाए जाने पर आपत्ति जताई है. बता दें, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर मिर्ची से हमला करने के चलते विधानसभा के विशेष सत्र को बुलाया गया है. केजरीवाल सरकार ने इस घटना के चलते सोमवार को दिल्ली विधानसभा का एक दिन का विशेष सत्र बुलाया है. AAP सरकार के मुताबिक, इस विशेष सत्र में 30 लाख मतदाताओं के नाम गलत तरीके वोटर लिस्ट से हटाए गए हैं, उसपर भी चर्चा होगी.

विधानसभा स्पीकर को लिखी चिट्ठी में अजय माकन ने कहा कि सीएम केजरीवाल पर मिर्ची से हमला एक व्यक्ति विशेष से जुड़ा मामला है, जिस पर विशेष सत्र बुलाया जा रहा है. लेकिन, विधानसभा में जनहित से जुड़े मुद्दों और कानून  बनाने के लिए सत्र बुलाए जाते हैं. व्यक्तिगत मुद्दों के लिए विशेष सत्र बुलाए जाने से विधानसभा की गरिमा को ठेस पहुंचती है. साथ ही जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा भी बर्बाद होता है.

सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी लेना होगा मुश्किल, नियम तोड़ने वालों पर ऐसे नकेल कसेगी पुलिस

आगे उन्होंने लिखा. यह बहुत आश्चर्य की बात है कि दिल्ली सरकार को दिल्ली में जानलेवा प्रदूषण के बढ़ते स्तर, गैर कानूनी सीलिंग, डेंगू और दिल्ली की बिगड़ती कानून व्यवस्था जैसे ज्वलंत और महत्वपूर्ण मुद्दों पर विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की फुरसत तक नहीं है, जबकि ये सभी मुद्दे दिल्ली की जनता को सीधे तौर पर प्रभावित करते हैं.

उन्होंने कहा कि मैं खुद विधानसभा का अध्यक्ष रहा हूं, और हमने दिल्ली विधानसभा की गरिमा को बनाए रखा. कभी किसी व्यक्ति विशेष और व्यर्थ के मुद्दे को लेकर विशेष सत्र नहीं बुलाया गया. कांग्रेस के 15 साल के शासनकाल में विधानसभा के केवल तीन विशेष सत्र बुलाए गए. इनमें व्यावसायिक वाहनों को CNG में बदलने, रिहायसी इलाकों में सीलिंग और दिल्ली सरकार के अधिकारों में कटौती का विरोध जैसे मामले शामिल हैं.वहीं, आम आदमी पार्टी की वर्तमान सरकार अपने साढ़े तीन साल के कार्यकाल में विधानसभा के 15 विशेष सत्र बुला चुकी है. इनमें से एक भी सत्र में जनहित से जुड़े मामलों की चर्चा नहीं की गई.

VIDEO: सीएम केजरीवाल के पैर छूने के लिए झुका था शख्स, आंखों में झोंक दी लाल मिर्च

अजय माकन ने विधानसभा स्पीकर से अपील की कि वे अपने पद की मर्यादा को बनाए रखते हुए व्यक्ति विशेष मुद्दों को लेकर विशेष सत्र की अनुमति नहीं दें. इससे सदन की गरिमा कायम रहेगी. साथ ही बुलाए गए विशेष सत्र में प्रदूषण, डेंगू जैसे मुद्दों पर चर्चा की जाए.