close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MCD चुनाव में AAP की हार, अलका लांबा ने की MLA पद से इस्तीफा देने की पेशकश

आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा ने अपने क्षेत्र में आप प्रत्याशियों की हार की जिम्मेदारी लेते हुए विधायक और पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देने की पेशकश की है. 

MCD चुनाव में AAP की हार, अलका लांबा ने की MLA पद से इस्तीफा देने की पेशकश
अलका ने कहा कि वह केजरीवाल को समर्थन और उन्हें मजबूती प्रदान करना जारी रखेंगी. (फाइल फोटो)

नयी दिल्ली: आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा ने अपने क्षेत्र में आप प्रत्याशियों की हार की जिम्मेदारी लेते हुए विधायक और पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देने की पेशकश की है. 

चांदनी चौक विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाली अलका ने ट्वीट किया, ‘मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र के सभी तीन वाडरें में पार्टी प्रत्याशियों की हार की निजी जिम्मेदारी लेती हूं और पार्टी के सभी पदों और विधायक के तौर पर भी इस्तीफे की पेशकश करती हूं.’

बहरहाल, अलका ने कहा कि वह केजरीवाल को समर्थन और उन्हें मजबूती प्रदान करना जारी रखेंगी.

हालांकि अलका के पास पार्टी में कोई भी अहम पद नहीं है. उन्हें पिछले साल पार्टी के आधिकारिक प्रवक्ताओं के पैनल से भी हटा दिया गया था.

दिल्ली कांग्रेस प्रमुख अजय माकन ने इस्तीफे की पेशकश की
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख अजय माकन ने नगर निगम चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन की नैतिक जिम्मेदारी स्वीकार करते हुये बुधवार (26 अप्रैल) को अपने पद से इस्तीफे की पेशकश की.

माकन ने बताया कि वह एक साल तक पार्टी में कोई भी पद नहीं लेंगे और एक साधारण कार्यकर्ता की तरह अपने कर्तव्य का निर्वहन करेंगे.

अजय माकन ने कहा, ‘‘कांग्रेस पुनर्जीवित हो रही है लेकिन मुझे उम्मीद थी कि इससे कुछ बेहतर होगा। मुझे इससे कुछ बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में मैं नैतिक जिम्मेदारी लेता हूं और अपने पद से इस्तीफे की पेशकश करता हूं. मैंने अपने पद से इस्तीफा देने का निर्णय लिया है.’’

उन्होंने दावा किया कि दिल्ली में कांग्रेस के वोट प्रतिशत में बढ़ोतरी हुयी है. उन्होंने कहा, ‘‘हम साकारात्मक मुद्दों के साथ चुनाव लड़े. हम संतुष्ट हैं कि चुनाव में हमने उचित मुद्दों को उठाया. संगठनात्मक नियुक्तियों में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में ढाई वर्ष के कार्यकाल के दौरान हमें खुली छूट मिली थी.’’

'MCD चुनाव हारने से कांग्रेस खत्म नहीं होगी, हारने वाला कहता है EVM खराब है'

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने एमसीडी चुनाव में कांग्रेस की हार के लिए स्थानीय नेतृत्व की संलिप्तता की कमी को जिम्मेदार बताते हुए बुधवार (26 अप्रैल) को आरोप लगाया कि अजय माकन के नेतृत्व में दिल्ली कांग्रेस लोगों तक पहुंच नहीं सकी.

शीला ने कहा, ‘पार्टी (मतदाताओं तक) उस तरह पहुंच नहीं बना पाई, जिस तरह उसे बनानी चाहिए थी. जब आप कुछ करना नहीं चाहते तो कोई भी बहाना बनाया जा सकता है. आला कमान को फैसला करना होगा. नेतृत्व को आत्मविश्लेषण करने की आवश्यकता है.’ 

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री ने इस बात पर दुख प्रकट किया कि माकन चुनाव प्रचार मुहिम में उनके (शीला) समेत वरिष्ठ नेताओं को शामिल करने में असफल रहे. शीला ने कहा, ‘मुझे चुनाव प्रचार के लिए कहा ही नहीं गया था, तो मैं प्रचार कैसे कर सकती थी.’ उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस मतदाताओं तक पहुंचने में भी नाकाम रही. पार्टी आलाकमान इस मामले को देखेगा.