देवता बना एंबुलेंस ड्राइवर, नवजात बच्चे को हृदय की सर्जरी के लिए तुरंत पहुंचाया अस्पताल

नवजात बच्चे के हृदय की सर्जरी के लिए नाहन से गुड़गांव के अस्पताल में सिर्फ साढ़े तीन घंटे में पहुंचाया दिया.

देवता बना एंबुलेंस ड्राइवर, नवजात बच्चे को हृदय की सर्जरी के लिए तुरंत पहुंचाया अस्पताल
एंबुलेंस ड्राइवर ने नवजात बच्चे को मसीहा बनकर अस्पताल पहुचाया.

गुड़गांव: कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू हुए Lockdown के दौरान कोरोना फाइटर्स की विपरीत परिस्थितियों में भी कमाल करने की कहानियां रोज सुनने को मिल रही हैं. ऐसी ही एक कहानी हरियाणा के गुड़गांव से आई है. यहां एक एंबुलेंस ड्राइवर ने एक परिवार को नवजात बच्चे के हृदय की सर्जरी के लिए नाहन से गुड़गांव के अस्पताल में सिर्फ साढ़े तीन घंटे में पहुंचाया दिया.  

बता दें कि नवजात बच्चे के दिल में छेद है. जिसके लिए तुरंत उसके हृदय की सर्जरी होनी जरूरी थी. लॉकडाउन के कारण सड़क पर न तो कोई साधन था न ही कोई आने को तैयार था. ऐसे में एक गरीब परिवार के लिए रेडक्रॉस एंबुलेंस ही थी. एंबुलेंस चालक राम सिंह ने उनके नवजात बच्चे की जान बचा ली. एंबुलेंस ड्राइवर ने हनुमान की तरह नाहन से गुरुग्राम तक का करीब साढ़े पांच घंटे का रास्ता मात्र साढ़े तीन घण्टे में ही तय कर लिया.

ये भी पढ़ें- रमजान से पहले सामने आया 'भगोड़े मौलाना' का कोरोना ज्ञान, कही ये बात

जानकारी के मुताबिक सोमवार को नवजात बच्चे की आयु अस्पताल में भर्ती किए जाने के समय मात्र दो दिन की थी. तब उसकी हालत नाजुक थी.

VIDEO