close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली : कैंट इलाके में मेजर की पत्नी की गला रेतकर हत्या, घटना को दिया एक्सीडेंक्ट का रूप

पुलिस ने बताया कि महिला के पति से बात करने के बाद पुलिस को बेहद अहम सबूत मिले हैं. हत्यारा परिवार का बेहद जानकार है.

दिल्ली : कैंट इलाके में मेजर की पत्नी की गला रेतकर हत्या, घटना को दिया एक्सीडेंक्ट का रूप
पुलिस छानबीन से पता चला कि महिला की गला रेत कर हत्या की गई, फिर लाश पर गाड़ी चढ़ा दी गई

नई दिल्ली (प्रमोद शर्मा) : राजधानी के बेहद संवेदनशील इलाके दिल्ली कैंट में आर्मी के मेजर की पत्नी के क़त्ल का मामला सामने आया है. 30 साल की शैलजा द्विवेदी की कार के अंदर सर्जीकल ब्लेड से गला रेत कर हत्या कर दी गई जिसके बाद लाश को गाड़ी से बाहर फेंक कर उसे सड़क हादसा दिखाने के लिए उसके ऊपर गाड़ी भी चढ़ा दी. उधर, पुलिस ने दावा किया है कि वह जल्द ही मामला का खुलासा कर देगी.

शनिवार को कैंट मैट्रो स्टेशन से करीब 100 मीटर दूर बरार स्क्वायर के पास पुलिस को एक महिला की लाश मिली थी. स्थानीय लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस को शुरूआती जांच में लगा कि यह सड़क हादसे का मामला है. महिला की लाश के ऊपर गाड़ी चढ़ाई हुई थी और टायरों पर लगे खून के निशान घटनास्थल पर जाते हुए दिख रहे थे. लेकिन जब पुलिस ने गौर से देखा तो पाया कि महिला के गले पर कट का निशान था. निशान को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता था कि गले को सर्जीकल ब्लेड से काटा गया था.

पुलिस महिला की शिनाख्त कर पाती, उसे पहले ही आर्मी का एक मेजर अमित द्विवेदी नारायणा थाने पहुंचा और अपनी पत्नी के लापता होने की जानकारी के साथ अपने एक साथी मेजर का नाम लिया. पुलिस ने जब लाश की तस्वीर मेजर को दिखाई तो उसने महिला की शिनाख्त अपनी पत्नी शैलजा द्विवेदी के रूप में कर ली.

मेजर अमित ने पुलिस को बताया कि कुछ समय पहले जब वह नागालैंड के दीमापुर में तैनात था, तो शैलजा की दोस्ती वहां पर तैनात एक  अधिकारी से हो गई थी. अमित ने इस हत्या के पीछे उसी अधिकारी के होने का आरोप लगाया है.

पश्चिमी जिले के डीसीपी विजय कुमार ने बताया कि महिला के पति से बात करने के बाद पुलिस को बेहद अहम सबूत मिले हैं. हत्यारा परिवार का बेहद जानकार है. क़त्ल की वजह भी पता चल गई है. जल्द इस मामले का खुलासा कर दिया जाएगा.

दरअसल, सुबह 10 बजे शैलजा आर्मी की गाड़ी से दिल्ली कैंट के बेस हॉस्पिटल में फिजियोथेरेपी के लिए गई थी. हॉस्पिटल जाने के बाद शैलजा ने आर्मी की गाड़ी को वापस भेज दिया था. जिसके बाद वह किसी के साथ गाड़ी में हॉस्पिटल से निकल गई थी.